अमेरिका ने जारी की धा’र्मिक आज़ादी रिपोर्ट, भारत ने कहा यहाँ के अल्पसंख्यकों को लेकर किसी को भी…

नई दिल्लीः हाल ही में अमेरिका ने धार्मिक आज़ादी की एक विशेष रिपोर्ट जारी की है जिसमें कई अहम मुद्दों का खुलासा किया गया है। लेकिन अमेरिका की इस रिपोर्ट से भारत बेहद खफा नज़र आ रहा है। बीबीसी रिपोर्ट के मुताबिक अगर हम भारत में go र’क्षकों के नाम पर मुसलमा’नों और दलितों के ख़िलाफ़ हिं’सात्मक घ’टनाएं घटी हैं और भारत सरकार ने उनकी रोकथाम के लिए कोई ख़ास निर्णय नहीं लिए इन सबका अमरीकी विदेश मंत्रालय की वार्षिक रिपोर्ट में ज़िक्र है।

वही भारत के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता रवीश कुमार ने कहा कि किसी भी विदेशी संस्था या सरकार तो संविधान प्रदत्त अधिकारों से संरक्षित हमारे नागरिकों को लेकर कोई घोषणा करने का अधिकार नहीं है। बता दें कि अमेरिकी विदेश विभाग द्वारा प्रकाशित रिपोर्ट ऑन इंटरनेशनल रिलीजियस फ्रीडम में कहा गया है कि साल 2018 में भारत में अल्पसंख्य’कों को निशाना बनाया गया है।

Image Source: Google

इससे पहले भी साल 2018 में अमेरिका एक रिपोर्ट जारी कर कहा था कि भारत में 2017 में हिंदू राष्ट्र’वादी समूहों की हिं’सा के कारण अल्पसंख्यक समुदायों ने खुद को बेहद असुरक्षित महसूस किया है भारत में अल्पसंख्यकों के साथ काफी बुरा सुलूख किया जाता है। जिसको लेकर भारत उनकी रोकथाम के लिए कोई ख़ास निर्णय नहीं ले पा रहा है।

बता दें अमेरिकी संसद से अधिकार प्राप्त ये विदेश विभाग दुनिया के ज्यादातर देशों में धा’र्मिक स्वतंत्रता पर रिपोर्ट बनाता है विदेश विभाग के फॉगी बॉटम मुख्यालय में इसी महीने के पिछले सप्ताह रिपोर्ट जारी करते हुए विदेश मंत्री माइक पोम्पियो ने कहा था कि यह रिपोर्ट एक तरह का रिपोर्ट कार्ड है जो यह देखने के लिए देशों पर नज़र रखता है कि वे अपने मूलभूत मानवाधिकारों को किस तरह सम्मान देते हैं।

ग़ौरतलब है कि इस बार ये रिपोर्ट 25 जून से शुरू हो रही अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोम्पियो की आगामी भारत यात्रा से ठीक पहले प्रकाशित की गई है ऐसे में देखना होगा कि रिपोर्ट के संबंध में भारत के इस सख्त रूख का अमेरिकी विदेश मंत्री के दौरे पर कोई असर तो नहीं पड़ता है।