अमेरिका में चमकी गोरखपुर की मुस्लि'म बेटी, जज बनकर अमेरिका में लहराया परचम, पढ़ें सफलता की पूरी कहानी

अमेरिका में चमकी गोरखपुर की मुस्लि’म बेटी, जज बनकर अमेरिका में लहराया परचम, पढ़ें सफलता की पूरी कहानी

नई दिल्ली: हमारे देश की बेटियां आज किसी बेटे से कम नहीं है। वह अपनी प्रतिभा का हमेशा लोहा मनवाती रहती है। आये दिन हर सरकारी परिक्षा में बेटियां अव्वल आकर अपना और अपने देश का नाम रौशन करती रहती है। चाहे वो देश में हो या विदेशों में हर जगह आज लड़कियां कदम से कदम मिलाकर चलने को तैयार है। जी हां ऐसी हीं कामयाबी की नई इबारत लिखी है गोरखपुर की बेटी सामिया नसीम ने।

दरअसल, यूपी के गोरखपुर के गीता प्रेस रोड की रहने वाली सामिया ने ये कामयाबी अमेरिका में जज बनकर हासिल की है। अमेरिका के अटॉर्नी जनरल विलियम बर ने सामिया को शिकागो के जज के पद पर नियुक्त किया है। सामिया शिकागो के न्याय विभाग के मुख्य भवन में पिछले वर्ष 20 दिसंबर को विशेष समारोह में शपथ लिया।

 

सामिया के माता-पिता की बात करें तो पिता मुल रूप से गोरखपुर के गीता प्रेस रोड के निवासी हैं। और व अमेरिका में वकालत करते हैं। वहीं सामिया नासिम की मां प्लास्टिक इंजीनियर हैं। सामिया के पिता खालिद 1978 में स्नातक की पढ़ाई करने अमेरिका चले गए थे। और वहीं बस गये। वर्ष 1991 से हीं मैसाचुसेट्स के बॉयलस्टोन में रहते हैं।

 

वहीं सामिया की पढ़ाई की बात करें तो वो 2001 में वाशिंगटन के सिमंस कॉलेज से कला स्नातक तथा जॉर्ज वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी लॉ स्कूल से 2004 में ज्यूरिस डॉक्टर की उपाधि प्राप्त की। उन्होंने 2002 में यूनाईटेड किंगडम में ऑक्सफोर्ड यूनिवर्सिटी से अंतर्राष्ट्रीय मनवाधिकार कानून और शरणार्थी कानून का भी अध्ययन किया। जज बनने से पूर्व वह अमेरिका में कई महत्वपूर्ण पदों पर अपनी सेवाएं दे चुकी हैं।

सामिया नासिम के जज बनने पर गीताप्रेस मोहल्ले में हर्ष का माहौल है। पेशे से पत्रकार व लेखर मो. सैय्यद आसिम रउफ ने खुशी का इजहार करते हुए कहा कि साइमा नासिम के जज बनने से पूर्वांचल हीं नहीं बल्कि देश का भी मान बढ़ा है। हमें ऐसी बेटियों पर गर्व है।

Leave a comment