भारत की गंदगी अमरीका आ रही है: डोनाल्ड ट्रंप

भारत की गंदगी अमरीका आ रही है: डोनाल्ड ट्रंप

अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने एक बार फिर प्रदूषण को लेकर भारत की आलोचना की है. अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने कहा कि भारत और चीन अपने उद्योगों से निकले धुएं के निपटारे के लिए कुछ नहीं कर रहे हैं भारत के कई हिस्सों में एयर क्वॉलिटी इंडेक्स ख़तरनाक स्तर पर पहुंच गया है और राष्ट्रपति ट्रंप ने कहा है कि समुद्र के जरिए इन देशों का कचरा लॉस एंजेलिस पहुंच रहा है. लॉस ऐंजिलिस में सबसे ज्यादा भारत से गंदगी आ रही है।

ट्रंप ने कहा कि अमेरिका एकतरफा, भयावह और आर्थिक तौर पर नुकसानदायक पेरिस समझौते से बाहर हो गया, जिसमें कहा गया था कि तीन सालों के भीतर अपना बिजनेस बंद करो, खनन न करो, हमें उर्जा की जरूरत नहीं है। भयावह पेरिस समझौते से अमेरिकी नौकरियां खत्म हो रही थीं और विदेशी प्रदूषकों को संरक्षण मिला हुआ था।

वही ट्रंप ने आगे कहा की पेरिस जलवायु समझौता अमेरिका के लिए मुसीबत बना था और इससे अमेरिका को अरबों डॉलर का नुकसान होता। यह हमारे साथ अन्याय था। चीन को 2030 तक छूट मिली थी जबकि भारत को हमें पैसे देने पड़ते क्योंकि वह विकासशील देश हैं। ट्रंप ने तंज कसते हुए कहा कि अमेरिका भी विकासशील देश ही है।

हलाकि अमेरिका के पास तुलनात्मक रूप से कम जमीन है। आप चीन, भारत और रूस से तुलना करें तो पाएंगे कि ये देश अपने प्रदूषण के निपटारे के लिए कुछ भी नहीं कर रहे हैं, अपने देश में पेड़ों का सफाया कर रहे हैं और सारा कचरा समुद्र में बहा रहे हैं।

जिसमे प्लास्टिक, केमिलकल अवशेष के साथ अन्य तरह की गंदगी लॉस एंजेलिस पहुंचती है. हालांकि कई विश्लेषकों का मानना है कि ये गंदगी भारत से नहीं बल्कि चीन, वियतनाम, इंडोनेशिया, थाईलैंड और फिलीपींस से पहुंच रही है क्योंकि जीपीजीपी का प्राथमिक स्रोत भारत नहीं है।

Leave a comment