VIDEO: सीसीटीवी फुटेज से खुलासा, स्ट्रेच’र पर ले जाने की बजाय पुलिस तबरेज़ को कॉलर पकड़ कर ले गई थी अस्पताल

झारखंड: कथित तौर पर उन्मादी भीड़ द्वारा 24 वर्षीय तबरेज अंसारी की इतनी पिटा’ई की गई कि उसने द’म तोड़ दिया। वही तबरेज़ की सास ने अपनी विधवा बेटी को बाहों में जकड़े हुए शहनाज बेगम कहती हैं कि अगर प्रशासन ने थोड़ी भी सहानुभूति दिखाई होती और उनका सही टाइम पर अस्पताल पहुंचाया होता तो आज तबरेज जिं’दा होता।

पहली बात ये कि भी’ड़ ध’र्म से प्रेरित थी, जो तत्काल न्याय से बाहर हो गई थी और दूसरी बात ये कि प्रशासन ने तबरेज को दर्द से मरने दिया। उसे बचाने के लिए पुलिस कम से कम अस्पताल में भ’र्ती करवा सकती थी।

Image Source: Google

वही पुलिस प्रशासन द्वारा तबरेज़ को अस्पताल में लेजाते हुआ एक वीडियो सामने आया है जिसे देख कर बिलकुल कहा सकता है की हाँ मानवता फिर से खो गई है। क्योकि तबरेज की सिर्फ एक ही गलती थी वो एक मु@स्लिम था, उसके साथ धोखा किया गया और उसे चोर के रूप में टैग किया गया क्या या श’र्मनाक नहीं है।

टाइम्स नाउ ने अस्पताल से एक सीसीटीवी फुटेज हासिल किया है, जिसमें साफ साफ देखा जा सकता है कि पीड़ित तबरेज को न केवल भी’ड़ ने पी’टा था, बल्कि बाद में अस्पताल में पुलिस ने उसकी पि’टाई की थी। मॉब द्वारा पी’टने के बावजूद भी तबरेज को स्ट्रेचर नहीं दिया गया बल्कि पुलिस उसे कोलार पकड़ कर अस्पताल ले जा रही है।

आपको बता दें कि बुधवार को मॉब लिं’चिंग के ख़िलाफ़ भारत के 50 से ज़्यादा शहरों में प्रदर्शन किया गया जिसमें लोगों ने इसे लिंच आ$तंक करार दिया 24 वर्षीय तबरेज़ अंसारी को चोरी के संदेह में झारखंड के खरसावां जिले में एक हिं’दू भी’ड़ ने पी’ट-पी’टकर मा’र डाला था जिससे सार्वजनिक उत्पीड़न हुआ था।

हैशटैग #JusticeForTabrez और #IndiaAgainstLynchTerror के तहत लगभग 50 शहरों में विरोध प्रदर्शन किया गया जिसमे हिन्दू और मुसलमानो ने बड़ी तादाद में भाग लिया।

 

भारत के अलग-अलग शहरों में मानवाधिकार और सामाजिक कार्यकर्ता सिविल सोसायटी के सदस्य छात्र और आम लोगों ने इकट्टठे होकर मॉब लिं’चिंग के अपरा’धों के ख़िलाफ़ आवाज़ बुलंद की और इस विरोध प्रदर्शनों में विपक्ष के नेता भी शामिल हुए।

विपक्षी कांग्रेस पार्टी के नेता राहुल गांधी ने लिंचिंग को मानवता पर धब्बा करार दिया। नई दिल्ली में संसद भवन के करीब जंतर-मंतर पर विश्वविद्यालय के छात्रों और कार्यकर्ताओं सहित लोगों ने विरोध प्रदर्शन किया और इंसाफ की मांग की है।