बड़ी खबर: ईरान ने अमेरीकी ठिकानों पर एक के बाद एक कई मिसाईल दागीं, ट्रंप बोले ऑल इज वेल

वॉशिंगटन/तेहरान/बगदाद: अभी हाल ही में अमेरिका द्वारा ईरान पर किए गए एक हम’ले में इरान के तेज़ तर्रार और सबसे होनहार, जनरल कासिम सुलेमानी गुजर गए थे. अमेरीका इतने पर भी नहीं रुका, अगले कुछ घंटों में ही उसने दूसरा हम’ला कर दिया था. ईरान ने अपने जनरल की वफात का बदला लेने के लिए अपनी एक मस्जिद पर लाल झंडा फहरा कर अमेरिका के खिला’फ जंग का ऐलान कर दिया था.

इरान द्वारा उसी मुद्दे के तहत बीती रात ईरान सेना ने अमेरिकी सैन्य ठिकानों पर, एक के बाद एक 12 से भी ज्यादा बैलेस्टिक मिसाइ’ल छोड़ने की खबर है. वाशिंगटन, तेहरान, और बगदाद की मीडिया के हवाले से खबर है कि इस प्रतिक्रिया को देख अमेरीकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप के पसीने छूट गए हैं.

american base camp

डोनाल्ड ट्रंप ने एक ट्वीट कर कहा है कि हमारे पास दुनिया की सबसे ताकतवर सेना है ‘अब तक सब ठीक है’. हालाँकि ईरान के इस हम’ले में दो अमेरिकी मिलिट्री बेस कैंप में कितना नुकसान हुआ है, फिलहाल इस बात की पुष्टि नहीं हो पाई है.

अमेरिका ने ईरान इराक के ऊपर से जाने वाली अपनी सभी उड़ानों को रद्द कर दिया है. आपको बता दें कि अमेरिका की कई फ्लाइट्स ओमान की खाड़ी से होते हुए ईरान और इराक से गुजरती हैं. ऐसी सभी फ्लाइटों को कुछ समय के लिए बंद कर दिया गया है.

सरकारी ईरानी मीडिया के मुताबिक, अमेरिका को इसलिए निशाना बनाया गया है क्योंकि उन्होंने जनरल सुलेमानी की ह,त्या कर दी थी और यह सब हम अपने जनरल सुलेमानी की ह’त्या का बदला लेने के लिए कर रहे हैं.

iran ne amerikiana banaya sena ke thikano ko nish

आपको बता दें कि जब जनरल सुलेमानी की ह’त्या हुई थी, उसके तुरंत बाद अमेरिका ने इराक में रह रहे अमेरिकी नागरिकों को तुरंत इराक छोड़ने की अपील की थी. जिससे लग रहा था कि और आगे तक यह लड़ाई जारी रह सकती है.

ईरान और  अमेरीका का यु’ध्ध लड़ना, दुनिया के व्यापारिक दृष्टि से यह ठीक नहीं होगा. अभी हाल ही में इरानी जनरल सुलेमानी के जना’जे में 10 लाख से भी ज्यादा लोग जुटे थे.

अमेरिका ने हिंद महासागर में अपने ब’मवर्षक विमानों को तैनात करने की खबर भी दी है. इस हम’ले को लेकर इरानी विदेश मंत्री ने कहा है कि यह हम’ला उसने अपनी आत्मरक्षा में किया है.

हम किसी भी तरह से यु’ध्ध को बढ़ावा नहीं देना चाहते, लेकिन अगर कोई हमारे नागरिकों और अफसरों को निशाना बनाने के लिए आ;क्रमण करेगा तो हमें भी अपनी रक्षा के तौर पर जवाबी कार्यवाही करना ही होगी.