क्या अयोध्या के बाद अब मथुरा-काशी की है बारी? संघ प्रमुख मोहन भागवत ने दी प्रतिक्रिया

नई दिल्ली: राम जन्‍मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद पर आज सुप्रीम कोर्ट ने फैसला देते हुए कोर्ट ने विवादित स्थल पर राम मंदिर बनाने के लिए हरी झंडी दे दी है। संवैधानिक बेंच का फैसला आने के बाद राष्‍ट्रीय स्‍वयंसेवक संघ के प्रमुख मोहन भागवत ने अपनी प्रतिक्रिया में कहा कि संघ विवाद का खात्‍मा चाहता था जो हो गया. मैं इससे सं’तुष्‍ट हूं. और मोहन भागवत ने अयोध्या मामले में सुप्रीम कोर्ट के फैसले का स्वागत करते हुए देश की जनता से भाईचारा एवं शांति कायम रखने की अपील की है।

आपको बता दें राम जन्‍मभूमि विवाद पर सुप्रीम कोर्ट के संवैधानिक बेंच ने यह साफ कर दिया है कि विवा’दित जमीन ट्रस्‍ट को दी जाए जो मंदिर का निर्माण देखेगी. साथ ही सरकार को यह आदेश दिया है कि वह मुस्लि’म पक्ष को मस्जिद बनाने के लिए पांच एकड़ जमीन उपलब्‍ध कराए, जिसके लिए कोर्ट ने तीन महीने का समय दिया है।

वही मोहन भागवत से अयोध्‍या के बाद काशी और मथुरा को लेकर किए गए सवाल के जवाब में भागवत ने कहा कि संघ मनुष्‍य का निर्माण करता है, आंदोलन करना संघ का काम नहीं है. मस्जिद को जमीन दिए जाने के निर्णय को लेकर किए गए सवाल के जवाब में मोहन भागवत ने कहा कि यह सरकार से कहा गया है, वो देखे. मुझे इसमें कुछ नहीं कहना है. मोहन भागवत ने कहा कि कोर्ट के निर्णय की तरह हमारा स्‍टेटमेंट भी साफ है।

एनडीटीवी के मुताबिक शनिवार को सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद आयोजित प्रेसकॉन्फ्रेंस के बाद जब राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक मोहन भागवत ने कहा की अतीत की सभी बातों को भुलाकर हम सभी मिलकर रामजन्मभूमि पर भव्य राममंदिर के निर्माण में अपने कर्तव्य का पालन करेंगे। वही मुस्लि’मों के लिये उनका क्या संदेश होगा, इस सवाल पर भागवत ने कहा, भारत का नागरिक तो भारत का नागरिक है, उसमें हिंदू, मुस्लिम के लिये अलग संदेश क्यों।

हम इस हिदुस्तान में सबको मिलकर रहना है, देश को आगे बढ़ाना है। यह सदा सर्वदा के लिये हमारा संदेश है। आपको बता दें ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड के सदस्य जफरयाब जिलानी ने न्यायालय के फैसले पर असंतोष जताते हुए कहा है कि इस मामले में पुर्निवचार याचिका दायर करने पर विचार किया जाएगा।

इस बारे में पूछने पर भागवत ने कोई प्रतिक्रिया नहीं देते हुए कहा की आप उनसे पूछिये रामजन्मभूमि न्यास के भ’विष्य के बारे में पूछे गए सवाल पर उन्होंने कहा कि सभी पक्षों को मिलकर राममंदिर बनाने के लिये काम करना है।

साभार: khabar.ndtv