जम्मू कश्मीर की क्रिकेट टीम लापता- कप्तान परवेज रसूल का भी कोई अतापता नही, देखिए

जम्मू-कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन अपनी टीम को इस बार आंध्रा प्रदेश के विशाखापट्टनम में होने वाली विजी ट्रॉफी में नहीं भेज पा रही है क्यूंकि उन्हें राज्यपाल सत्यपाल मलिक से खिलाड़ियों की सुरक्षा का भरोसा नहीं मिला है. इंडियन एक्सप्रेस में छपी खबर के अनुसार आर्टिकल 370 हटने के बाद से जम्मू-कश्मीर के कई खिलाड़ियों से संपर्क नहीं हो पा रहा है। जिनमें जम्मू कश्मीर के कप्तान परवेज़ रसूल भी ला पता हैं।

क्रिकेट एसोसिएशन के सीईओ साह बुखारी ने इंडियन एक्सप्रेस से बातचीत करते हुए कहा कि, हम शायद ही विजी ट्रॉफी में हिस्सा लेंगे. हालात में सुधार हुआ है लेकिन हमारा अपने खिलाड़ियों से कोई संपर्क नहीं हैं। हमारे पास खिलाड़ियों के मोबाइल नंबर हैं लेकिन उन्होंने अपने लैंडलाइन नंबर हमें नहीं दिये हैं. आज के जमाने में लोग लैंडलाइन इस्तेमाल नहीं करते हैं।

Image Source: Google

हमने कुछ खिलाड़ियों से बात जरूर की लेकिन जो खिलाड़ी घाटी में हैं हम उनसे संपर्क नहीं कर पा रहे हैं क्योंकि उन खिलाडियों के मोबाइल फोन काम नहीं कर रहे हैं. हमें ये भी नहीं पता कि वो लोग कहा है और टीम के कैप्टन परवेज रसूल का भी कोई पता नहीं हैं?

बताया जा रहा है कि अनुछेद धारा 370 हटने के बाद से जम्मू कश्मीर में धारा 144 लगी हुई है जिसकी वजह से और सुरक्षा के लिहाज से मोबाइल फ़ोन और इंटरनेट सेवायें बंद कर दी गयी हैं जिसके कारण वहाँ पर किसी से भी कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है। जम्मू कश्मीर क्रकेट एसोसिएशन का इसलिए कप्तान परवेज रसूल और बाकी के खिलाडियों से कोई संपर्क नहीं हो पा रहा है।

आपको बता दें कि विजी ट्रॉफी का आयोजन नए खिलाडियों को खोजने और मैच प्रैक्टिस के लिए होता है जो आंध्र प्रदेश की आंध्र क्रिकेट एसोसिएशन कराती है. इसमें कई सारे राज्य एसोसिएशन की टीम हिस्सा लेती हैं जिनमे से नए नए खिलाडियों को छांट कर इंडियन क्रिकेट टीम में खेलने का अवसर दिया जाता है।

आंध्र क्रिकेट एसोसिएशन ने जम्मू कश्मीर क्रिकेट एसोसिएशन की एंट्री का 17 अगस्त तक इंतजार किया लेकिन राज्य की एसोसिएशन अपने खिलाड़ियों से संपर्क ही नहीं कर पाई. जम्मू कश्मीर की टीम को एंट्री से पहले 10 प्रैक्टिस मैच खेलने थे लेकिन अनुछेद धारा 370 हटने और धारा 144 लगने कि वजह से कश्मीर के हालात बदल गए हैं।