जिस मस्जिद को को ब’म से उड़ाने के ख्वाब देखता था, उसी में किया इस्लाम क़ुबूल

इस्लाम और उसके अनुयायी मुसलमानों से जीवन भर नफरत करने वाला शख्स आज खुद इस्लाम धर्म अपना कर मुसलमान बन गए हैं. इस आश्चर्यचकित घटना ने सभी को हैरान कर लिया हैं. पहली नजर में तो लोगों को घटना की सच्चाई पर भी विश्वास नहीं हो रहा है लेकिन यह सच हैं. इनका नाम रिचर्ड मैकिने है और इन्होने हाल ही में इस्लाम काबूल किया है.

इस्लाम की शरण में आने के बाद रिचर्ड ने अपने जीवन की एक ऐसी अनोखी कहानी बताई जो काफी आश्चर्यजनक है. द संडे प्रोजेक्ट से बात करते हुए रिचर्ड मैकिने ने बताया कि उन्हें इस्लाम और मुसलमानों से बेइंतहा नफरत थी.

इंडियाना के रिटायर्ड मैरीन अफसर रिचर्ड ने बताया कि जॉब से घर लौटने के बाद एल्कोहल एडिक्शन से लड़ रहे रिचर्ड के मन में इस्लाम और मुस्लिमों के खिलाफ नफरत फैल चुकी थी. शुरू में वह मुस्लिमों के प्रति इनती नफरत रखते थी की हर जगह दिखने वाले मुसलमानों को तुरंत मौत के घाट उतारने का प्लान बनाने लगते थे.

लेकिन उनकी यह नफरत अब प्यार में बदल गई है. एक बार कुरान शरीफ़ पढने के बाद अचानक ही उसका मन बदल गया और मुसल्मानो के परोपकार के काम में जुट गए. रिचर्ड ने कहा कि एक दिन वह अपनी पत्नी के साथ एक दुकान में गए थे. वहां काले बुर्के में दो महिलाओं को देखा.

मैंने सोचा कि मुझे इतनी ताकत मिल जाए कि मैं उनके पास जाऊं और उनकी गर्दन तोड़ दूं. लेकिन उन्होंने ऐसा कुछ नहीं किया बल्कि इससे भी बड़ा और खतरनाक प्लान बनाया. उन्होंने घर में बम बनाने का प्लान बनाया और इसे इस्लामिक सेंटर के बाहर रखकर मस्जिद को उड़ा देने का ख्वाब देखने लगे.

रिचर्ड ने सोचा था कि वह खुद दूर से बैठकर उस भयानक मंजर को देखेंगे. रिचर्ड के अनुसार उनकी 200 से ज्यादा लोगों को मा’रने और घायल करने की योजना थी. उन्होंने कहा कि इस्लाम के प्रति नफरत ही मुझे जिंदा रखे हुए थी. इसी बीच मैकिने ने इस्लाम समुदाय को एक और मौका देने के बारे में सोचा.

इसके लिए वह स्थानीय इस्लामिक सेंटर गए और वहां उन्हें एक कुरान दी गई जिसे वो घर ले गए और पढ़ने लगे. इसके 8 सप्ताह बाद ही उन्होंने इस्लाम में धर्मांतरण कर लिया. कुछ ही सालों बाद वह उसी इस्लामिक सेंटर के अध्यक्ष बन गए जिसे वह कभी बम से उड़ाना चाहते थे.

News Source: DailyMail.co.uk