पत्थरबाजी करती हुई फरजाना को सेना ने पकड़ा फिर उसके साथ क्या किया- हर कश्मीरी को जानना चाहिए

जम्मू कश्मीर के पत्थरबाज भारतीय सेना के लिए एक लंबे समय से सिरदर्द बने हुए है. अलगावादियों की बातों में आने वाले राज्य के कई युवा बड़े पैमाने पर भारतीय सेना पर पत्थरबाजी करते रहते हैं. पत्थरबाजी की यह घटनाएं आम होती जा रही है और यह आए दिन होते ही रहता हैं. पत्थरबाजी करने वालों में कई कश्मीरी युवा लड़के नजर आते रहे है.

लेकिन पिछले कुछ समय में पत्थरबाजी में लड़कियां भी नजर आने लगी है जो भारतीय सेना के लिए बड़ा सिरदर्द बनती जा रही हैं. सेना के सामने बड़ी समस्या यह होती है कि वह लडकियों के खिलाफ कोई सख्त कार्रवाई नहीं कर सकते हैं.

पत्थरबाजी करने वाले यह लोग सेना की अपील तो मानने से रहे और सेना कोई सख्त कदम न उठा सके इसके लिए यह लोग पड़े पैमाने पर लडकियों का इस्तेमाल करने लगे है जो सेना के लिए बड़ी समस्या बनने लगी हैं.

लेकिन क्या आप जानते है कि जब सेना पत्थर मारने पर इन लडकियों को पकडती है तो उनके साथ क्या किया जाता हैं. दरअसल बता दें कि गुरूवार को एक बार फिर से सेना पर पत्थरबाजी हुई जिसके बाद सेना ने भी जबाबी कार्रवाही की हैं.

वहीं सेना के इस कदम का महबूबा मुफ़्ती और उमर अब्दुल्ला ने विरोध किया है. सेना ने कुछ पत्थराबजों को पकड़ भी लिया. इन पत्थर फेंकने वालों में बड़ी संख्या में लड़कियां भी नजर आई है. यह लड़कियां स्कूल और कॉलेज जाने वाली छात्रा थी.

सेना ने इन छात्र लडकियों के खिलाफ किसी भी सख्त कार्रवाई में झिझाकाट देखने को मिली. जिसके बाद सेना ने एक पत्थरबाज लड़की को पकड़ लिया इसके बाद उसे कैंप में ले जाया गया. खबर के अनुसार सेना ने लड़की के साथ किसी भी तरह की कोई सख्ती नहीं की.

इसके उल्ट सेना ने बुधवार को पत्थरबाजी के आरोप में पकड़ी गई फरजाना के परिवार को बुलाया. इसके बाद उसके परिवार के सामने ही फरजाना की काउंसलिंग की गई और फिर उसे पढ़ लिखकर आगे बढ़ने की सलाह देते हुए उसके परिवार को सौंप दिया गया.

आपको बता दें कि फरजाना नाम की यह लड़की 12वीं की छात्र है. इसे जवानों ने पत्थरबाजी करते हुए पकड़ा था. बता दें कि भारतीय सेना द्वारा आज भी स्त्री पर हाथ ना उठाने के रिवाज को मना जाता हैं.