VIDEO: मुंबई में फंसे सैकड़ों प्रवासी मजदूरों और छात्रों के लिए फ़रिश्ता बने सोनू सूद

VIDEO: मुंबई में फंसे सैकड़ों प्रवासी मजदूरों और छात्रों के लिए फ़रिश्ता बने सोनू सूद

कोरोना वायरस से फैली इस महा’मा’री का प्रकोप पूरी दुनिया में देखने को मिल रहा है. देश भर में कोरोना के प्रकोप को रोकने के उद्देश्य से लागू किए गए लॉकडाउन के बाद अपने घरों को लौटने  के लिए प्रवासी मजदूर मजबूर हो गए और देखते ही देखते सड़कों पर प्रवासी मजदूरों का हुजूम लग गया. इस दौरान लोगों को कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. घर वापसी में प्रवासी मजदूर, छात्रों के समझ कई दिक्कत हैं. साधनों की कमी के चलते यह लोग पैदल तक घरों को जाने पर विवश हो रहे हैं.

लेकिन इस संकट के समय में कई लोग फरिश्ता बनकर सामने आ रहे हैं. एक ऐसा ही जाना पहचाना नाम है बॉलीवुड के मशहूर अभिनेता सोनू सूद का. सोनू सूद महानगरी मुंबई में काम करने वालें प्रवासी कामगारों के लिए किसी मसीहा से कम साबित नहीं हो रहे है. सोनू सूद लगातार प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने में जुटे हुए हैं.

सोनू सूद ना सिर्फ प्रवासी मजदूर बल्कि मुंबई में रहने वाले छात्रों की मदद करने में भी सबसे आगे आ रहे है. लॉकडाउन लागू होने के बाद से ही कई बार उन्हें मदद करते देखा जा रहा है. सोनू मुंबई से बस के माध्यम से प्रवासियों को घर पहुंचाने में जुटे हुए है. इसके साथ ही वह जरूरतमंद लोगों को अपने ट्विटर हैंडल से लगातार रिप्लाई दे रहे हैं.

सोनू सूद के इस सराहनीय कार्य के लिए सोशल मीडिया यूजर्स समेत कई लोग उनकी जमकर तारीफ कर रहे हैं. एक यूजर ने लिखा कि सोनू सूद भाई हम पुलिस चौकी का 16 दिन से चक्कर लगा रहे है लेकिन हमारा काम नहीं हो रहा. हम लोग धारावी में रहते हैं और बिहार जाना चाहते हैं.

इस पर सोनू ने रिप्लाई किया भाई चक्कर लगाना बंद कीजिए और रिलैक्स रहिए. दो दिन में बिहार में अपने घर का पानी पियोगे. आप बस डिटेल भेजिए. वहीं एक अन्य यूजर ने लिखा कि सोनू सर हम मुंबई में फंसे हुए है और हमें बिहार जाना है. हमने पुलिस चौकी में फॉर्म भरा है लेकिन अभी तक हमें कॉल नहीं आया.

सोनू सूद ने इस पर रिप्लाई करते हुए कहा कि भाई अपनी डिटेल भेजो. मां बाप से मिलने का समय आ चूका हैं मेरे दोस्त. एक अन्य यूजर ने लिखा सर मेरे गांव के लोग मुंबई मजदूरी के लिए गए थे जो फंसे हुए है.

आप से निवेदन है कोई रास्ता निकले यह लोग सीतामढ़ी बिहार से है. इस मानवीय सहयोग के लिए हमारा पूरा गांव आपसे आशावादी है. जिस पर सोनू ने कहा कि उनसे कहिए जल्दी ही मुलाकात होगी.

Leave a comment