लोकसभा चुनाव: मुस्लिम महिलाओ से जुडी इस मान्यता के ख़िलाफ़ सुप्रीम कोर्ट में याचिका

देश में चल रहे लोकसभा चुनावों के बीच सुप्रीम कोर्ट में एक ऐसी याचिका दाखिल की गई है जिसे लेकर विवाद किस स्थिति बनती नजर आ रही हैं. जहां लोकसभा चुनाव के बीच लगातार हिंदू-मुस्लिम सुनने को मिल रहा है. लगातार मुस्लिम धर्म को लेकर विवादित बयान आ रहे है. इसी बीच एक मुस्लिम धर्म से जुडी मान्यता के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया गया है.

यह याचिका मुस्लिम महिलाओ से जुडी हुई है. सुप्रीम कोर्ट में मुस्लिम महिलाओं के मस्जिद में कथित रूप से प्रवेश की मनाही के खिलाफ यह याचिका दायर की गई है. याचिका में इस प्रथा को गैर-कानूनी और असंवैधानिक घोषित करने की मांग की गई है.

सोमवार को दायर इस याचिका में महिलाओं के मौलिक अधिकारों के हनन होने का हवाला देते हुए मस्जिद में महिलाओं का प्रवेश वर्जित को गैरकानूनी करार देने की मांग सुप्रीम कोर्ट से की गई है.

आपको बता दें कि इससे पहले भी हिंदू धर्म से जुड़े सबरीमला मंदिर में भी महिलाओं के प्रवेश को अनुमति मिलने के बाद भी इस संबंध में मांग उठाने लगी थी.

उस दौरान केरल की एक मुस्लिम महिला अधिकार संगठन ने देश भर की मस्जिदों में महिलाओं के प्रवेश पर लगे बैन को हटाकर उन्हें प्रवेश करने का अधिकार देने की बात कही थी.

इसे लेकर प्रगतिशील महिला मंच ने जल्द से जल्द सुप्रीम कोर्ट का रुख करने का दावा भी किया था. इस संगठन का दावा था कि वो न सिर्फ महिलाओं के मस्जिद में नमाज पढ़ने की मांग करेंगे बल्कि वो उन्हें इमाम के रूप में नियुक्त देने के लिए भी संघर्ष करेगी.

आपको बता दें कि इससे पहले भी मुस्लिम धर्म में प्रचलित तीन तलाक के खिलाफ बिल और हलाला निकाह पर भी प्रतिबंध की बातचीत चल रही है. सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी ने अपने संकल्पपत्र में इन मुद्दों को विशेष रूप से स्थान दिया है.