महिला ने जज के सामने लगाए ‘अल्लाह हू अकबर’ के नारे, कोर्ट ने सुनाई 42 साल की सजा

चाँद के दीदार के साथ रमज़ान का महिना खत्म हो गया है. इसी के साथ ही बुधवार को ईद का त्यौहार बहुत ही धूमधाम से मनाया गया. एक तरफ जहां दुनिया भर में ईद की खुशियां मनाई जाने की खबरें सामने आ रही थी इसी बीच एक हैरान कर देने वाला सनसनीखेज मामला भी सामने आया हैं. यह हैरान कर देने वाला मामला ऑस्ट्रेलिया से सामने आया है.

बताया जा रहा है कि यहां एक बांग्लादेशी महिला को मकान मालिक की चा’कू से गो’द कर ह’त्या करने के प्रयास करने के आरोप में अदालत ने 42 सा’ल जे’ल की सजा सु’नाई गई है. इसके आलावा महिला पर आ’तं’की संगठन आ’ईए’स’आई’एस में शामिल होने का आरोप है.

Image Source: Google

इस महिला का नाम मो’मेना शो’मा बताया जा रहा है. 26 वर्षीय महिला ऑस्ट्रेलिया के एक विश्वविद्यालय में पढ़ने के लिए गई थी. मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार महिला ने आ’तं’की गतिविधि में शामिल होने और सोते हुए मकान मालिक की ह’त्या करने का प्रयास करने की बात कबूल की है.

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार घटना से महज आठ दिन पहले ही शोमा ऑस्ट्रेलिया आई थी. विक्टोरिया प्रांत के सुप्रीम कोर्ट में जज द्वारा जब फैसला सुनाया जा रहा था उस दौरान महिला ने नकाब पहन रखा था. इसी बीच उसने भरी अदालत में अल्लाह हू अकबर के नारे भी लगाने शुरू कर दिए.

बता दें कि इस दौरान अदालत में पी’ड़ित मकान मालिक रो’जर सिंगारावेलू भी मौजूद थे जिस पर आरोपी महिला ने ह’मला किया था.

न्यायाधीश लेसली टेलर ने अपने फैसले में महिला को सजा सुनाते हुए कहा कि तुम जिस मं’शा के साथ यहां आई हो तुम्हारे काम और बयान डर पैदा करने वाले हैं. इसी के साथ ही जज ने सजा के दौरान महिला को 31 साल छह महीने तक कोई भी परोल देने से साफ इनकार कर दिया है.