इजरायल के साथ सभी समझौतों को ख़ारिज करते हुए महमूद अब्बास ने कहा हम काफिरों के सामने…

बैतूल मक़दिस: फिलिस्तीन के राष्ट्रपति महमूद अब्बास ने कहा है कि फिलिस्तीनी अब इजराय’ल के साथ किए गए पिछले समझौतों से बंधे नहीं हैं। उनकी यह टिप्पणी यरुशलम के किनारे पर बनाई गई फिलिस्तीनी इमारतों को इजराय’ल द्वारा अवैध बताते हुए पूरी तरह से नष्ट करने के बाद आई है। इस घट’ना के बाद आपा’तकाली’न बैठक भी बुलाई गई थी।

उन्होंने वेस्ट बैंक के कब्जे वाले रामल्ला शहर में फिलिस्तीन लिबरेशन ऑर्गनाइजेशन पीएलओ की बैठक के बाद कहा, हम इजरायली पक्ष के साथ हस्ताक्षरित समझौतों को लागू करने से रोकने के लिए नेतृत्व के फैसले की घोषणा करते हैं। अब्बास ने कहा कि फैसले को लागू करने के लिए तंत्र तैयार किया जाएगा।

Image Source: Google

उन्होने कहा हम यरुशलम और अन्य जगहों पर ज़ालिमों के सामने न कभी झुके हैं और नहीं झुकेंगे उन्होंने कहा जाहिर तौर पर इजरायल की सरकार ने पूर्वी यरुशलम में कब्जे वाले दर्जनों फिलिस्तीनी घरों को ध्वस्त कर दिया था। फिलिस्तीनी राष्ट्रपति ने कहा कि यह कदम इजरायल के कब्जे वाले अधिकार के आग्रह के बाद आया है ताकि फिलिस्तीनी पक्ष के साथ हस्ताक्षरित समझौतों की अनदेखी की जा सके।

अब्बास ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से फिलिस्तीनी क्षेत्रों में इजरायल के उल्लंघन पर रुख अपनाने का आह्वान किया। उन्होंने यह पुष्टि की कि यह मिस्र द्वारा दलाली किए गए काहिरा 2017 समझौते को लागू करने का समय था फिलिस्तीनी राजनीतिक दलों हमास और फतह के बीच एक सुलह समझौते पर हस्ताक्षर करने का जिक्र है।

वही सोमवार को पूर्वी इजरायल के वाडी होम्स के पड़ोस में सैकड़ों इजरायली सैनिकों के साथ बुलडोजर चला और इलाके की कई इमारतों को तहस नहस करना शुरू कर दिया। इजरायली अधिकारियों का दावा है कि इमारतों का निर्माण बिना परमिट के किया गया था। 1967 के अरब इजरायल युद्ध के दौरान इज़राइल ने पूर्वी यरुशलम पर कब्जा कर लिया था, जहां फ्लैशपॉइंट अल-अक्सा मस्जिद परिसर स्थित है।

अंतर्राष्ट्रीय समुदाय द्वारा कभी भी मान्यता प्राप्त नहीं होने के बाद इज़राइल ने 1980 में पूरे शहर की घोषणा की, यह दावा किया कि यह स्व-घोषित यहूदी राज्य की शाश्वत और अविभाजित राजधानी है।