अप्रवासी मजदूरों के पलायन के बीच जब शबाना आज़मी ने किया सवाल तो संबित पात्रा को याद आया पाकिस्तान

बॉलीवुड अभिनेत्री शबाना आजमी सोशल मीडिया पर काफी एक्टिव रहती हैं. खासतौर पर वह ट्विटर पर लगातार समसामयिक मुद्दों पर अपने बात रखती रहती हैं. शबाना आजमी को अपनी बेबाक राय जनता के सामने रखने के लिए जाना जाता हैं. दुनिया भर में अपना कहर बर्षा रहे कोरोना वायरस को लेकर भी वह अक्सर अपनी राय लोगों के सामने रख रही हैं.

इसी कड़ी में हाल ही में उन्होंने एक ट्वीट किया. शबाना आजमी ने अपने ट्वीट में एक तस्वीर शेयर की. इस तस्वीर में दो छोटे बच्चे नजर आ रहे थे. तस्वीर में देखा जा सकता है कि एक छोटा सा लड़का एक बच्चे को अपनी गोद में पकड़ कर बैठा हुआ है. दोनों में से किसी के पास भी अपने तन को पूरी तरह से ढकने के लिए कपड़े नहीं हैं.

इस तस्वीर को साझा करते हुए एक्ट्रेस ने लिखा- हार्टब्रेकिंग. अब इसके बाद इस तस्वीर पर बीजेपी के राष्ट्रीय प्रवक्ता और नेता संबित पात्रा ने प्रतिक्रिया देते हुए एक और तस्वीर साझा की जिसमें वहीं दोनों बच्चे दिखाई दे रहे हैं. इसके साथ ही पात्रा ने बताया कि इस फोटो में नजर आने वाले दोनों बच्चे पाकिस्तानी है और यह तस्वीर पाकिस्तान का है.

इसके साथ ही संबित पात्रा ने शबाना आजमी पर तीखी प्रतिक्रिया देते हुए लिखा कि इस मुश्किल वक्त में दिल तोड़ने वाला प्रोपेगेंडा. इसके बाद शबाना ने उन्हें जबाव देते हुए लिखा कि यह प्रोपेगेंडा कैसे है? मैंने तो सिर्फ हार्ट ब्रेकिंग शब्द का प्रयोग किया है. इसके बाद संबित पात्रा ने एक बार फिर से शबाना आजमी के ट्वीट का रिप्लाई दिया.

संबित पात्रा ने अपनी बात को बदलते हुए लिखा कि मैम आप बिल्कुल चिंतित न हों . मेरा मतलब तो सिर्फ पाकिस्तान के प्रोपेगेंडा को हार्टब्रेकिंग कहने का था. अब देखिए ना, पाकिस्तान के पास खाने के लिए नहीं है ढ़ेला, चला है बनाने नया पाकिस्तान का रेला.

उन्होंने आगे लिखा कि मैम आपको अपराध-बोध नहीं होना चाहिए. इसके बाद से ही शबाना आजमी और संबित पात्रा के बीच हुई एक तीखी बस पर लोग खूब कमेंट करके अपनी प्रतिक्रिया देने में लगे हुए हैं.

आपको बता दें कि इस समय देश भर में कोरोना के वजह से लगे कर्फ्यू के कारण बड़ी तादाद में मजदूर वर्ग अपने घरों की तरह वापस लौट रहे हैं. इस दौरान बड़ी संख्या में लोग पैदल ही हजारों किलोमीटर का सफर तय करने को मजबूर हो रहे है. इस दौरान लोग हादसों में अपनी जा’न तक गवां बैठे हैं.

Leave a comment