ममता बनर्जी के मंत्री की लोगो से अपील अगर कोई भी केंद्र से अधिकारी डॉक्यूमेंट देखने आए तो…

कोलकाता: नागरिकता संशोधन क़ानून और NRC के ख़िलाफ़ देशभर के कई राज्यों में लोग सड़कों पर हैं। इस कानून को लेकर पश्चिम बंगाल में भी पुरजोर विरो’ध किया जा रहा है। हाल ही में मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने केंद्र सरकार को चुनौती देते हुए कहा है कि हम इस काले कानून को बंगाल में किसी भी कीमत पर लागू नहीं होने देंगे। इस घ’मासा’न के बीच अब पश्चिम बंगाल मंत्री सिद्दीकुल्ला चौधरी का भी बयान आया है।

बता दें पश्चिम बंगाल के जनशिक्षा व पुस्तकालय मंत्री सिद्दीकुल्ला चौधरी एक बार फिर विवा’दों में घिर गए है। इससे पहले वे केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह के बंगाल दौरे पर एयरपोर्ट घेर’ने की चेताव’नी दे चुके हैं। इस बार उन्होंने नागरिकता संशोधन कानून और राष्ट्रीय नागरिकता पंजी को लेकर वि’वा’दित बयान दिया है।

बंगाल में एक जनसभा को सम्बोधित करते हुए सिद्दीकुल्ला ने कहा कि अगर आपके पास केन्द्र सरकार का कोई भी अधिकारियों आये और तुम्हारे कागजात व दस्तावेज साझा करने को कहे तो ऐसा कभी नहीं करें, ऐसा करना उनके लिए ख’तरना’क हो सकता है। सिद्दीकुल्ला ने कहा कि वे लोगों से अपील करते हैं कि किसी भी स्थिति में वे अपने दस्तावेज न दिखाएं।

वही सिद्दीकुल्ला चौधरी ने कहा की अगर कागजात दिखाने की जरूरत पड़ती है तो केवल राज्य सरकार के कर्मचारियों को ही दिखाएं। राज्य सरकार के मंत्री ने कहा कि कागजात मांगने वालों को पहले अपनी पहचान व नागरिकता का सबूत देना होगा।

आपको बता चौधरी ने हाल ही में कोलकाता में आयोजित सभा में केन्द्रीय गृहमंत्री अमित शाह को चेतावनी दी थी। उन्होंने कहा था कि यदि केन्द्र सरकार नागरिकता संशोधन कानून वापस नहीं लेती है तो वे अमित शाह को कोलकाता एयरपोर्ट पर एक लाख लोगों को साथ उनका घेराव करेंगे।

आपको बता दें सिद्दीकुल्ला चौधरी अपने गर्मागर्म बयानों के लिए जाने जाते हैं। हाल ही में अभी चौधरी को बांग्लादेश ने वीजा देने से इंकार कर दिया था। उन्हें दिसम्बर के आखिरी हफ्ते में बांग्लादेश जाना था। बांग्लादेश ने उन्हें वीजा नहीं दिया था।