मस्जिद अल अक़्सा में नमाज़ पढ़ने वाले फ़िलिस्तीनियों पर इ’स्राई’ली सैनिकों ने किया ह’मला, जान बचाकर भागे…

रमज़ान के पाक माह में भी इजरायल और फिलीस्तीन के बीच मौजूदा तनाव कम होने का नाम नहीं ले रहा है. इन दिनों इजरायल के अत्या’चार तेजी से बढ़ते जा रहे है. एक फिलिस्तीनी मानवाधिकार संगठन ने बताया कि रमजान शुरू होने के बाद से 10 वें दिन तक इजरायल के सुरक्षा बालों ने 100 फिलिस्तीनियों को गिरफ्तार कर लिया हैं.

इसके बाद अब एक बार फिर से इजरायल से हम’ले की खबरें सामने आ रही हैं. बताया जा रहा है कि इजरायल सैनिकों ने सोमवार की रात मस्जिद अल-अक़्सा में नमाज़ अदा करने के लिए गए फ़िलिस्तीनियों पर हम’ला बोल दिया.

Image Source: Google

इतना ही नहीं इस दौरान इस्राईली सैनिकों ने मस्जिद में मौजूद नमाज़ियों को धमकाते हुए कहा कि अगर वो मस्जिद अल-अक़्सा से बाहर नहीं निकलेंगे तो उन सब को गिरफ़्तार कर लिया जाएगा.

इजरायल सैनिकों के ह’मले के बाद फ़िलिस्तीनी नमाजियों को बाबुस्साहेरा इलाक़े में नमाज़ पढ़ने के लिए मजबूर होना पड़ा. आपको बता दें कि मुसलमानों के तीसरे सबसे पवित्र धार्मिक स्थल मस्जिद अल-अक़्सा पर अक्सर इजरायल सैनिक और ज़ायोनी हम’ले करते रहते हैं.

ज़ायोनी शासन बैतुल मुक़द्दस की इस्लामी पहचान को मिटाने की कोशिश में लगा हुआ है ताकि इसका पूर्ण रूप से यहूदीक’रण किया जा सके. हालांकि यूनिस्को ने 2017 में स्पष्ट किया कहा था कि मस्जिद अल-अक़्सा मुसलमानों का धार्मिक स्थल है और इसका यहूदियों से कोई ताल्लुक नहीं हैं.

बता दें कि इजरायल के कब्जे वाले बलों द्वारा गिरफ्तार किये गए इन 100 लोगों में 18 मासूम बच्चों और चार महिलाएं भी शामिल है. मिडिल ईस्ट मॉनिटर के अनुसार फिलिस्तीनी कैदियों के अध्ययन केंद्र ने कल एक बयान जारी करते हुए कहा कि इजरायली सेना ने अपने कब्जे वाले वेस्ट बैंक और पूर्वी यरुशलम में फिलिस्तीनी क्षेत्रों पर धावा बोला.

इसी दौरान फिलिस्तीनी मुस्लिमों के घरों पर छपे मा’रे गए. उन्होंने बताया कि इस दौरान सुरक्षा बालों ने दर्जनों फिलिस्तीनी नागरिकों को गिरफ्ता’र किया है. केंद्र ने बताया कि बंदियों में 18 नाबालिग भी शामिल थे. वहीं इन लोगों में शामिल सबसे छोटा बच्चा नौ वर्षीय मौसा रमजान है. उन्हें हेब्रोन स्ट्रीट पर एक सैन्य चौकी पर गिरफ्ता’र किया गया था.