मस्जिदों पर हमलें के बाद पूरे देश में आपातकाल लागु, फेसबुक, वाटस्अप जैसे सोशल मीडिया पर लगा प्रतिबंध

बीते महीने ईस्टर के मौके पर श्रीलंका में सिलसिलेवार हुए आठ धमाकों के बाद से ही माहौल तनावपूर्ण बना हुआ है. समय के साथ माहौल में सुधार की जगह और तनाव बढ़ता नजर आ रहा हैं. आतं’की हमलों के बाद अब श्रीलंका से दं’गे भड़कने की खबरें लगातार सामने आ रही है. श्रीलंका के कुछ शहरों में एक सोशल मीडिया पोस्ट में एक बार फिर से शांत होते तूफान में खलबली मचा गई हैं.

इसके बाद से ही श्रीलंका में एक बार फिर से तनाव की स्थिति चरम पर पहुंच गई हैं. जिसके चलते श्रीलंका सरकार ने सोमवार को सोशल मीडिया नेटवर्क और मैसेजिंग ऐप पर अस्थायी रूप से प्रतिबंध लगा दिया है. इस प्रतिबंध में फेसबुक और व्हाट्सएप भी शामिल हैं.

Source: Google

देश भर में अफवाहों के चलते हिं’सा ना फैले इस को ध्यान में रखते हुए सोशल मीडिया पर प्रतिबंध लगाया गया है. खबरों के मुताबिक रविवार को एक फेसबुक पोस्ट के सोशल मीडिया पर वायरल होने के चलते श्रीलंका के पश्चिमी तटीय शहर चिला में तनाव बढ़ गया.

जिसके बाद कुछ उपद्र’वियों के एक गुट ने एक मस्जिद और मुस्लिमों की कुछ दुकानों पर जमकर पथराव किया. जिसके चलते देश के कई शहर में कर्फ्यू लगाना पड़ा. अमर उजाला पर छपी खबर के मुताबिक न्यूज़ एजेंसी रॉयटर्स की रिपोर्ट ने सूत्रों के हवाले से बताया है कि फेसबुक पर शुरू हुए एक विवाद के चलते रविवार को एक व्यक्ति के साथ मारपीट की गई.

इसके बाद स्थिति और बिगड़ गई और दर्जनों लोगों ने मस्जिदों और मुसलमानों द्वारा चलाए जा रहे स्टोर पर पत्थरों से हमला किया और उन्हें क्षतिग्रस्त किया. वहीं स्थिति पर काबू पाने के लिए शहर में अतिरिक्त पुलिस बल तैनात किये गये हैं.

Source: Google

वहीं इसे लेकर पुलिस ने बताया कि कर्फ्यू एहतियात के तौर पर सोमवार सुबह छह बजे तक लगा रहेगा. उन्होंने बताया कि कैथोलिक बहुल इस क्षेत्र में शनिवार से ही कैथोलिक और मुस्लिम समुदाय के बीच तनाव की स्थिति बनी हुई है.

बता दें कि इसे ईस्टर संडे के मौके पर गिरिजाघरों और होटलों पर हुए हम’लों के परिणाम के तौर पर देखा जा रहा हैं. सिलसिलेबार हुए इन हमलों में 250 लोगों की मौ’त हो गई थी. यहां के निवासियों ने बताया कि दोनों समुदायों के बीच यहां शनिवार तक तनावपूर्ण माहौल बना हुआ है.

इसी बीच फेसबुक पर एक पोस्ट सामने आई जिसके चलते तनाव गहरा गया. इस फेसबुक पोस्ट में यूजर ने लिखा है कि हमें रूलाना काफी मुश्किल है और इसके साथ ही मुस्लिम समुदाय के खिलाफ बयानबाजी भी की गई है. इस पोस्ट में स्थानीय भाषा प्रयोग की गई है.

वहीं इसके बाद मुस्लिम नाम वाले के एक यूजर ने इसका जवाब देते हुए लिखा था कि ज्यादा हंसो मत, एक दिन तुम रोने वाले हो. स्थानीय प्रशासन का कहना है कि उन्होंने फेसबुक यूजर को गिरफ्तार कर लिया है और उसकी पहचान 38 वर्षीय हमीद मोहम्मद हसमार के तौर पर हुई है.

हमीद चिलॉ के उस इलाके में रहता है जहां ईसाई समुदाय के लोगों की संख्या ज्यादा है. वहीं नाराज भीड़ ने आरोपी की जमकर पिटाई भी की. वहीं एक स्थानीय मुस्लिम युवक ने बताया कि पोस्ट सामने आने के बाद कुछ लोगों ने मस्जिद और मुस्लिमों की दुकान पर पथराव भी किया.

Leave a comment