VIDEO: डॉ जाकिर नाइक का खुलासा, कश्मीर पर समर्थन के लिए मोदी सरकार ने दिया था ये ऑफर

नई दिल्ली: विश्व प्रसिद्ध इस्लाम प्रचारक डॉक्टर जाकिर नाईक ने एक वीडियो के माध्यम से एक हैरान करने वाला दावा किया है। नाइक ने कहा है कि भारत सरकार ने कश्मीर में उसके समर्थन के बदले में उसके खिलाफ दर्ज मामलों में राहत देने की पेशकश की थी। उसने कहा कि भारत सरकार ने उसके खिलाफ दर्ज मनी लॉन्ड्रिंग के मामले को वापस लेने और भारत में लौटने का रास्ता साफ करने की पेशकश की थी।

दरअसल, एक वीडियो के माध्यम से जाकिर नाइक ने ये दावा किया है की पिछले साल सितंबर में भारत सरकार के एक प्रतिनिधि द्वारा उनसे संपर्क किया गया। नाइक ने अपनी मुंबई की पीआर टीम द्वारा जारी वीडियो में कहा, साढ़े तीन महीने पहले भारतीय अधिकारियों ने भारत सरकार के एक प्रतिनिधि के साथ एक निजी बैठक के लिए मुझसे संपर्क किया।

जब वह मुझसे मिलने के लिए पिछले वर्ष सितंबर में पुटराजया, मलेशियाई शहर आए, तो उन्होंने कहा कि वह व्यक्तिगत रूप से भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृह मंत्री अमित शाह के सीधे निर्देशों के तहत आ रहे हैं। नाइक ने कहा उन्होंने मुझे बताया कि वह पीएम मोदी और अमित शाह के निर्देशों के तहत मुझसे मिलने आए हैं ताकि वे भारत में मेरे सुरक्षित मार्ग के लिए काम कर सकें।

क्योंकि वे मुस्लिम देशों के साथ संबंध सुधारने के लिए मेरे कनेक्शन का उपयोग करना चाहते थे। प्रतिनिधि ने कहा कि वह मेरे और भारत सरकार के बीच की भ्रां’तियों और गलतफह’मी को दूर करना चाहता है, और मुझे भारत में एक सुरक्षित मार्ग प्रदान करना चाहता हैं।

 

वही नाइक ने कहा, बैठक कई घंटों तक चली। उन्होंने मुझे बताया कि वह चाहते थे कि मैं कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के लिए भाजपा सरकार का समर्थन करूं। मैंने इसके लिए सीधे रूप से मना कर दिया। नाइक ने कहा कि प्रस्ताव से इनकार करने के बाद उन्हें आगे भाजपा या प्रधानमंत्री मोदी के खिलाफ सार्वजनिक बयान नहीं देने के लिए कहा गया।

आपको बता दें इस्लाम प्रचारक डॉक्टर जाकिर नाइक पर भारत में सां’प्रदा’यिक विद्वेष को भ’ड़का’ने और गैरकानूनी गतिविधियों को अंजाम देने का आरोप है। इसी कारण वो पिछले तीन साल से मलेशिया में रह रहा है। वह जुलाई 2016 को ढाका में हुए आ’तं’की ह’मले के सिलसिले में भारत और बांग्लादेश दोनों जगह जांच का सामना कर रहे है।