Home desh VIDEO: मॉब लिंचिं’ग के खिलाफ मालेगांव में इक’ट्ठा हुए 1 लाख से भी ज्यादा मुसलमा’न, उलेमाओं ने कहा अब बर्दास्त के बाहर

VIDEO: मॉब लिंचिं’ग के खिलाफ मालेगांव में इक’ट्ठा हुए 1 लाख से भी ज्यादा मुसलमा’न, उलेमाओं ने कहा अब बर्दास्त के बाहर

0
VIDEO: मॉब लिंचिं’ग के खिलाफ मालेगांव में इक’ट्ठा हुए 1 लाख से भी ज्यादा मुसलमा’न, उलेमाओं ने कहा अब बर्दास्त के बाहर

मालेगाव: महाराष्ट्र के मालेगांव में एक शही’द स्मारक है, जिसे उन शहीद स्वतंत्रता सेनानियों की याद में बनवाया गया था, जिन्हें 97 साल पहले ब्रिटिश राज में फां’सी दे दी गई थी। सोमवार को उसी स्थल पर बड़ी संख्या में मुस्लि’म समाज के लोग इकट्ठा हुए। दरअसल मुस्लिम समाज के करीब 1 लाख से भी ज्यादा लोगों ने मालेगांव के प्रसिद्ध शही’द स्थल पर इकट्ठा होकर मॉब लिंचिं’ग के खिलाफ विरोध प्रदर्शन किया और सरकार से मॉब लिंचिं’ग के खिलाफ कानून बनाने की अपील की। और इस ऐतिहासिक स्थल इसका गवाह बना।

इस विरोध प्रदर्शन की अगुवाई जमीयत उलेमा के मौलवियों ने की। प्रदर्शनकारियों ने शांति’पूर्ण मार्च निकाला और सरकार से इस मसले पर एक ह’फ्ते में कोई कदम उठाने की मांग की है। उलेमाओं का कहना है कि हम बदला नहीं चाहते और ना ही किसी भी तरहे की हिं’सा में विश्वास करते हैं। हमें कानून के राज में विश्वास है।

muslim protests
Image Source: Google

भी’ड़ द्वारा मॉब लिंचिं’ग का विरोध करने के लिए समुदाय द्वारा इसे पहली रैली करार देते हुए, आयोजकों ने कहा, झारखंड के 24 वर्षीय तबरेज अंसारी की ह$त्या अंतिम ट्रिगर है। जमीयत उलेमा के मौलवियों और एनजीओ ने मौ’न विरो’ध का आह्वा’न किया सरकारों से इस बात पर ध्यान देने का आग्रह किया कि कमजोर अल्प’संख्य’क संविधान की रक्षा के लिए निकला है। हम हिं$सा नहीं कानून के शासन में विश्वास करते हैं।

रैली में जाने से पहले लाखो लोग मालेगांव किले में जमा हुए और भाषणों में अक्सर भावुक होते हुए उग्रता थी और पुलिस प्रशासन और राज्य और केंद्र सरकारों से संविधान में ध्यान देने की अपील की गई। भी’ड़ को मुसलमा’नों के बीच यह संदेश फैलाने के लिए भी कहा गया कि लिंचिं’ग के शिकार लोगों को जय श्री राम का जाप करने में असहायता नहीं दिखानी चाहिए।

ऑल-इंडिया मुस्लि’म पर्सनल लॉ बोर्ड के सचिव मौलाना उमरैन महफूज रहमानी ने द इंडियन एक्सप्रेस को बताया, इस मुद्दे भी$ड़ हिं$सा ने हमारे दिल को छेड़ा है लगता है कोई अंत नहीं है। अब बर्दास्त के भी बहार है मुसलमान अन्य समुदायों के विपरीत हैं। यदि कोई अन्य समुदाय लक्ष्य होता, तो वे अब तक जवाब दे चुके होते।

मौलाना उमरैन महफूज रहमानी ने कहा हम अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर रहे हैं और उन्हें आश्वस्त कर रहे हैं, उन्हें संयम दिखाने के लिए कह रहे हैं, उनके साथ दुआ कर रहे हैं। लेकिन अब भी हमारी परीक्षा हो रही है। पहलु खान के मामले में सरकारी तंत्र ने जिस तरह से व्यवहार किया वह दिल तोड़ने वाला है ज्यादातर मामलों में कोई एफआईआर नहीं होती है और फिर हमारे समुदाय को लिंचिं’ग की तस्वीरें और वीडियो देखना पड़ता है और आरोपियों को सरकार के मंत्रीयो द्वारा फूल की माला पहनाई जा रही है।

 

विरोध स्थल पर रहमानी ने एक उग्र भाषण दिया उन्होंने कहा की मुसलमा’न लंबे समय तक उत्पीड़न को बर्दाश्त नहीं करेंगे। हम इसे स्पष्ट रूप से कहते हैं: भी’ड़ का जमावड़ा एक जुटा हुआ ह$त्या है और एक अच्छी तरह से तैयार की गई योजना के अनुसार फैलाया जा रहा है।

महाराष्ट्र प्रशासन को सौंपे गए एक पत्र में, समुदाय ने राष्ट्रपति से सभी राज्य सरकारों और केंद्रशासित प्रदेशों को लिंचिं’ग के बारे में लिखने और राज्य के प्रमुखों को उनके संवैधानिक कर्तव्यों को याद दिलाने का आग्रह किया है। मॉब लिंचिं’ग के प्रत्येक पीड़ित के परिवार को 50 लाख रुपये के मुआवजे की भी मांग है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here