मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मुस्लिम बेटियों को मिलेंगे 51,000 रुपये, इस योजना के तहत मिलेगी राशी

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने देश में मुस्लिम लड़कियों को उच्च शिक्षा के लिए प्रोत्साहित करने के मकसद से एक बड़ा ऐलान किया है. केंद्र सरकार उन अल्पसंख्यक लड़कियों को 51,000 रुपये की राशि बतौर शादी शगुन देने की घोषणा की है जो स्नातक की पढ़ाई पूरी करेंगी. केंद्र सरकार मुस्लिम समुदाय में शिक्षा के स्तर में सुधार के लिए कई ठोस कदम उठा रही हैं.

इसी कड़ी में केंद्रीय अल्पसंख्यक कार्य मंत्रालय की अधीनस्थ संस्था मौलाना आजाद एजुकेशन फाउंडेशन (एमएईएफ) ने मुस्लिम समुदाय की लड़कियों की मदद करने के उद्देश्य से यह कदम उठाने का ऐलान किया हैं.

Image Source: Google

एमएईएफ का कहना है कि इस स्कीम का मकसद सिर्फ और सिर्फ मुस्लिम लड़कियों और उनके अभिभावकों को इस बात के लिए प्रोत्साहित करना है कि लड़कियां विश्वविद्यालय या कॉलेज स्तर की पढ़ाई पूरी कर सकें. फ़िलहाल इस कदम को आरंभिक तौर पर शादी शगुन नाम दिया गया है.

मोदी सरकार के अल्पसंख्यक कार्य मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी की अध्यक्षता में हुई एमएईएफ की बैठक के दौरान लड़कियों को दी जाने वाली छात्रवृत्ति के संदर्भ में भी कुछ फैसले लिए गए जिनमें ये फैसला प्रमुख है.

इसके साथ ही अब नौंवी और 10वीं कक्षा में पढ़ाई करने वाली मुस्लिम बच्चियों को 10 हजार रुपये की राशि प्रदान करने का फैसला भी लिया गया हैं. बता दें कि अब तक 11वीं और 12वीं कक्षा में पढ़ाई करने वाली मुस्लिम लड़कियों को 12 हजार रुपये की छात्रवृत्ति दी जा रही थीं.

Image Source: Google

वहीं एमएईएफ के कोषाध्यक्ष शाकिर हुसैन अंसारी ने कहा कि मुस्लिम समाज के एक बड़े तबके में आज भी मुस्लिम बच्चियों को उच्च शिक्षा प्राप्त नहीं हो पाती हैं. जिसकी एक बड़ी वजह आर्थिक तंगी भी रहती है. ऐसे में हमारा मकसद बच्चियों और खासकर अभिभावकों को प्रोत्साहित करना है जिससे लड़कियां कम से कम स्नातक स्तर की पढ़ाई पूरी करें.

अंसारी ने इस नए कदम का श्रेय पीएम नरेंद्र मोदी के नेतृत्व और मुख्तार अब्बास नकवी के प्रयासों को देते हुए कहा कि पीएम ने सबका साथ, सबका विकास के नारे को सच करने का काम किया है. यह प्रधानमंत्री के सशक्त नेतृत्व और नकवी जी के प्रयासों का नतीजा ही है कि अल्पसंख्यकों के विकास के लिए सरकार कई कदम उठा रही हैं.