नमाज़ पर पाबंदी लगाकर योगी संकट में, कांग्रेस ने उठाई संघ की शाखा पर पाबंदी की मांग

उत्तर प्रदेश के नोएडा में पुलिस ने हाल ही में एक आदेश जारी करके पार्कों में नमाज़ पड़ने पर रोक लगा दी है. इसके लिए पुलिस ने इलाके में स्थित सभी कंपनियों को कहा गया है कि उनके जहां काम करने वाले कर्मचारी पार्क में नमाज़ न पढ़े. इसके बाद अब यह मामला तूल पकड़ता जा रहा है. नमाज़ को लेकर आदेश जारी करना यूपी की योगी सरकार पर ही भारी पड़ता जा रहा है. दरअसल इस पाबंदी के आदेश के बाद अब कांग्रेस ने सार्वजानिक जगहों पर बीजेपी समर्थित आरएसएस की लगने वाली शाखाओं पर भी पाबंदी लगाने की मांग की है.

इस मामले को लेकर कांग्रेस का कहना है कि जब सार्वजनिक जगहों पर नमाज़ होने पर पाबंदी लगाई जा सकती है तो फिर आरएसएस की शाखा पर क्यों नहीं? उत्तर प्रदेश के डीपीजी ओपी सिंह को इस मामले में कांग्रेस नेता संपूर्णानंद की और से पत्र लिखकर शाखा पर पाबंदी की मांग की गई है.

उन्होंने बताया कि मैं इस मामले को लेकर डीजीपी को पत्र लिखा है और पूछा है कि आरएसएस की शाखा पर कानून क्यों लागू नहीं होता है. क्यों सिर्फ नामज़ को ही सार्वजानिक जगहों पर रोका जा रहा है? आरएसएस की शाखाओं को क्यों नहीं रोका जा रहा है?

कांग्रेस नेता ने आगे कहा कि उत्तर प्रदेश प्रशासन का यह आदेश अनावश्यक और बेतुका है. उन्होंने कहा कि हम हर जिले में बीजेपी का असली चेहरा सबको बताएगें. उन्होंने कहा कि नोएडा का यह मामला बहुत ही गंभीर विषय है.

उन्होंने कहा कि आरएसएस अपनी शाखाएं बिना किसी इजाजत के सरकारी, गैर सरकारी संस्थाओं के अलावा पब्लिक पार्क में आयोजित करता है और फिर यहां से समाज को तोड़ने-बांटने के संदेश फैलाए जाते हैं इसलिए इस रोक लगना जरुरी है.