असदउद्दीन ओवैसी का होने वाला दामाद बरकत आलम खान किसी हीरो से कम नही है, जानिए कौन है?

तेलंगाना में विधानसभा चुनाव होने के बाद अब हैदराबाद के सांसद और AIMIM प्रमुख असदउद्दीन ओवैसी अपनी बेटी की शादी की तैयारियों में जुट गए हैं. ओवैसी की बेटी कुदसिया का निकाह नवाब बरकत आलम खान से होने जा रहे है. इस शादी के द ओवैसी खानदान और हैदराबाद के नवाब शाह आलम खान खानदान के बीच कई पीढ़ियों से चली आ रही दोस्ती अब रिश्तेदारी में बदल जाएगी. नवाब बरकत आलम खान (हैदराबाद के नवाब के पोते) है. यह निकाह 28 तारीख को होने जा रहा है.

इस शाही शादी में शामिल होने के लिए देश की तमाम अहम शख्सियतों को न्योता भेजना शुरू हो चूका है. हैदराबाद के शीर्ष उद्योगपतियों में शुमार नवाब खानदान के पोते बरकत आलम अपने परिवार के बिजनेश में हाथ बढ़ाने का काम करते है.

इसके साथ ही बरकत आलम सामाजिक कार्यों में भी काफी सक्रिय रहते हैं. जिसके चले वह हैरादाबाद के लोगों के बीच काफी लोकप्रिय है. बरकत अपने परिवार का बिजनेस संभालने के साथ साथ कई शैक्षणिक संस्थानों का संचालन भी करते है.

बरकत आलम ने मैनेजमेंट में पोस्ट ग्रेजुएट किया हुआ है. बरकत सामाजिक कार्यों में काफी रूचि रखते है और समाज सेवा में बढ़ चढ़ कर हिस्सा लेते है. इसके साथ ही वह अल्पसंख्यक समाज को शिक्षा मुहैया कराने के लिए बड़े स्तर पर काम कर रहे है.

बरकत कई सारे शैक्षणिक संस्थान भी चलाते हैं. जिनमें मशहूर अनवरुल उलूम कॉलेज भी आता हैं. बरकत के पिता अहमद आलम डेयरी व्यवसाय और गुलाब की खेती के मामले में हैदराबाद में एक बड़ा नाम रखते है. हैदराबाद में गुलाब शो की शुरुआत अहमद आलम खान ने ही की थी.

बरकत आलम के दादा शाह आलम खान का हैदराबाद में काफी रुतबा रखते है. वहीं राजनीतिक नजरिए से देखा जाए तो नवाब शाह आलम खान के बड़े बेटे और बरकत के चाचा महबूब आलम खान तेलंगाना की सत्ताधारी पार्टी टीआरएस से संबंध रहे हैं.

वहीं टीआरएस प्रमुख के.चंद्रशेखर राव और ओवैसी में भी अच्छी दोस्ती मानी जाती है. जब ओवैसी तेलंगाना सीएम के. चंद्रशेखर राव को निमंत्रण देने पहुंचे थे तो उनके साथ बरकत भी नजर आए थे. माना जाता है कि नवाब खानदान राजनीति में गहरी पकड रखता है.