नींबू पानी बेचकर गुज़ारा बचपन, आज हैं इस्लामिक मुल्कों के हीरो- तय्यब एर्दोगान

सोशल मीडिया पर आज तय्यब एर्दोगान को कौन नहीं जानता| रजब तैय्यब अर्दोगान दुनिया के पहले एकमात्र ऐसे मुस्लिम राष्टपती हैं जिनको अंतररास्ट्रीय स्तर पर ख्याती प्राप्त है| आज सोशल मीडिया के ज़रिये एर्दोगान ने एक अलग ही पहचान बना ली है, और हो भी क्यों न| जब भी दुनियाभर में मुसलमानों पर मुसीबत आयी है अर्दोगान उनके लिए हमेशा हर तरह से मदद करने के लिए हरदम तिययर रहते हैं| चाहे फिर वो रोहिंग्या मुसलमान हों या फिर बंगलादेशी मुसलमान|

39630 xmnmbokikk 1471434543

अपने संघर्षपूर्ण भरे जीवन में एर्दोगान ने कभी हार नहीं मानी, अभी हाल ही में उनको अमेरिका ने भी हर तरह से झुकाने की कोशिश की, उन पर तरह तरह के टैक्स का बोझ डालकर उनके आर्थिक बजट को काफी नुक्सान भी पहुंचाया| यहाँ तक की तुर्की से आने वाले सामान का भी उन्होंने आयात बंद करवा दिया था| वक़्त की नजाकत को देखते हुए एक-एक कर कई मुस्लिम देश तुर्की के राष्ट्रपती के समर्तन में आ गए|

tayyab urdugan

एर्दोगान का जन्म सन 1954 में तुर्की की राजधानी इसतम्बूल के करीबी शहर क़ासिम पाशा में हुआ था इनका परिवार यहाँ का नहीं था ये रहने वाले रिजा राज्य के थे यहाँ आकर रह रहे थे| इनके पिता का नाम अहमद एर्दोगान और माता का नाम तन्ज़िला एर्दोगान था इनके पिता नेवी में कैप्टन थे इसीलिए इनका जीवन एक साहिल समंदर पर आबाद शहर रीझे में गुज़रा था|

tayyip erdogan

इनकी एक बहन वसीला और एक भाई मुस्तफा है बीबीसी न्यूज़ के वर्ल्ड एडिशन में 4 नवम्बर 2002 को बताया गया की तय्यब ने अपनी नोजवानी के दिनों में नीबूं सोडा पानी और तिल लगी हुई रोटी इसतम्बूल के मालदार जिलों की सड़कों पर बेचा करते थे|

4742254lpw 4743674 jpg 3671532

जिससे उन्हें थोड़े पैसे मिल जाते थे इन्होने अपनी विश्वविद्यालय में पढ़ाई के दौरान इनकी मुलाकात तुर्की देश इस्लामवादी प्रधान मंत्री से हुई| तय्यब ने तुर्की के इस्लामवादी आंदोलन में प्रवेश किया और यहीं से एर्दोगान ने अपनी राजनीतिक जीवन की शुरुआत की 1980 में तय्यब इसतम्बूल ट्रांसपोर्ट अथॉरिटी में काम करते थे|

AP 18176203813695

तभी सैन्य तख्तापलट के बाद तुर्की में इस्लाम विरोधी सरकार ने जन्म लिया जिसके चलते तय्यब से मूंछें दाढ़ी कटवाने के लिए कहा जिस पर तय्यब एर्दोगान ने नौकरी छोड़ दी| तय्यब एर्दोगान ने राजनीति की पहली सीढ़ी पर 1994 में क़दम रखा और इसतम्बूल शहर के मेयर चुने गए उस समय जनता सत्तर साल पुरानी पानी की समस्या पाईप लाईन बिछवाकर खत्म कर दिया|

तय्यब एर्दोगान ने हमेशा अपनी छवि को एक मुस्लिम रहनुमा के रूप में पेश किया है| 1994 से 1998 तक वह इसतम्बूल के मेयर रहे उसके बाद 2003 से 2014 तक तुर्की के प्रधानमंत्री बने 2014 से अब तक तुर्की के राष्ट्रपति हैं|

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *