लाइव इंटरव्यू के दौरान जबरजस्त भूकंप, न्यूज़ीलैंड की पीएम ने जारी रखी बातचीत

लाइव इंटरव्यू के दौरान जबरजस्त भूकंप, न्यूज़ीलैंड की पीएम ने जारी रखी बातचीत

दुनिया भर में इन दिनों लगातार आपदाएं देखने को मिल रही है. एक तरफ दुनिया कोरोना जैसी महामारी का सामना कर रही है वहीं दूसरी तरफ दुनिया भर में एक के बाद एक प्राकृतिक आपदाओं का सामना करना पड़ रहा है. हाल ही में भारत में तूफान अल्फान ने भारी तबाही मचाई. कोई भी आपदा या मुश्किल हालतों में इंसान अपना संयम खो देता है और घबराने लगता है. एक हद तक कहा जाए तो यह इन्सान की स्वाभाविक प्रतिक्रिया होती हैं.

लेकिन सोमवार को एक अलग दृश्य देखने को मिला. सोमवार की सुबह न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री एक चैनल को इन्टरव्यू दे रही थी लेकिन इसी दौरान भूकंप के झटके आ गए लेकिन वह बिल्कुल नहीं डरी और इन्टरव्यू जारी रखा. खबरों के अनुसार न्यूजीलैंड की प्रधानमंत्री जेसिंडा आर्डर्न एक टीवी चैनल को लाइव इंटरव्यू दे रही थीं.

इसी बीच वहां अचानक से भूकंप के झटके महससू किए गए जिससे चौतरफा अफरातफरी मच गई. लेकिन फिर भी पीएम जेसिंडा आर्डर्न डरी नहीं बल्कि उन्होंने अपना साक्षात्कार जारी रखा. साक्षात्कारकर्ता रयान ब्रिज को पीएम आर्डर्न ने बीच में थोड़ी देर रोककर उन्हें बताया कि राजधानी वेलिंगटन में स्थित संसद परिसर में इस समय क्या हो रहा है.

आर्डर्न ने साक्षात्कारकर्ता से कहा कि रयान यहां पर भूकंप आया है. हमें अच्छे-खासे झटके महसूस हुए है. इसी दौरान उन्होंने कमरे में दाएं-बाएं देखते हुए कहा कि आप मेरे पीछे रखी हुई चीजों को हिलते हुए देख सकते हो. इस दौरान रयान ने इन्टरव्यू रोकने के लिए कहा मगर उन्होंने इसे जारी रखा.

आपको बता दें कि प्रशांत महासागर के रिंग ऑफ फायर के क्षेत्र में ही न्यूजीलैंड आता है और यहां अक्सर ही भूकंप आते रहते है जिसके चलते इसे कई बार अस्थिर द्वीप भी कहा जाता हैं. खबरों के अनुसार अमेरिकी भूगर्भीय सर्वेक्षण की माने तो न्यूजीलैंड में सोमवार सुबह आए इस भूकंप की तीव्रता 5.6 थी. वहीं इसका केंद्र उत्तरपूर्व वेलिंगटन से 100 किलोमीटर दूर समुद्र की गहराई में स्थित था.

बता दें कि इस भूकंप के दौरान किसी भी तरह के जान-माल के बड़े नुकसान की खबर सामने नहीं आई है. वहीं इस दौरान आर्डर्न ने इन्टरव्यू जारी रखते हुए साक्षात्कारकर्ता को बताया कि भूकंप थम चूका है. हम ठीक हैं रयान. मेरे ऊपर लगी लाइटों ने हिलना बंद कर दिया है. मुझे ऐसा लगता है कि मैं अब एक ठोस और मजबूत ढांचे के नीचे बैठी हुई हूं.

Leave a comment