CAA हिं’सा: बिजनौर सुलेमान की मौ’त मामले में छह पुलिसकर्मियों पर ह’त्या और दं’गो के साथ ही…

उत्तर प्रदेश: नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के विरोध पर नहटौर में हुई हिं’सा के दौरान उत्तर प्रदेश के बिजनौर में हुई सुलेमान खान की मौ’त के मामले में मुख्य आरो’पी कांस्टेबल मोहित सहित छह पुलिसकर्मियों के खिला’फ ह#त्या का मामला दर्ज किया है। इनमें स्टेशन हाउस मास्टर (एसएचओ) राजेश कुमार सोलंकी भी शामिल हैं. यह घट’ना बिजनौर के नहटौर की थी।

दरअसल, 20 दिसंबर यानी पिछले शुक्रवार को बिजनौर नहटौर में नागरिकता कानून के विरोध प्रदर्शन के दौरान हुई हिं’सा में गो’ली लगने से अनस और सुलेमान खान की मौ’त हुई थी। वही सलमान, कफील व ओमराज गो’ली लगने से घा’यल हो गए थे। वही दरोगा आशीष तोमर, स्वाट टीम का सिपाही मोहित समेत कई पुलिसकर्मी घा’यल हुए थे।

आपको बता दें यह पहला मामला है जब नागरिकता कानून के विरोध में हुई हिं’सा में उत्तरप्रदेश पुलिस ने माना है कि उनकी गो’ली से किसी शख्स की मौ’त हुई है. बिजनौर पुलिस के एसपी संजीव त्यागी ने पुष्टि की है कि कांस्टेबल मोहित की गो’ली से सुलेमान की मौ’त हुई है। बता दें अनस को .32 बोर व सुलेमान खान को 9 एमएम की गो’ली लगी थी।

द क्विंट की खबर के अनुसार इस मामले को लेकर एसपी देहात विश्वजीत श्रीवास्तव ने बताया कि सुलेमान की मौ’त के मामले में मृ’तक के भाई शोएब ने पुलिस को तहरीर देते हुए कहा था कि उसका भाई सुलेमान 20 दिसंबर शुक्रवार की नमाज पढ़कर घर लौट रहा था। इस दौरान तत्कालीन कोतवाल राजेश सोलंकी, शहर इंचार्ज आशीष तोमर व कांस्टेबल मोहित कुमार अपने तीन अन्य साथियों के साथ एजेंसी चौराहे पर पहुंचे।

सुलेमान के भाई शोएब ने बताया कि इस दौरान सभी पुलिस वाले सुलेमान को खीं’चकर मंडी की गली में ले गए और वहाँ लेजाकर गो’ली मा’र दी। इसके बाद सभी पुलिसकर्मी सुलेमान को छोड़कर वहां से भाग गए। और घट’ना के बाद वहां पर मौजूद लोग उसे सीएचसी ले गए। जहाँ इलाज के दौरान उसने द’म तोड़ दिया।

बता दें सुलेमान नोएडा में रहकर यूपीएससी की तैयारी कर रहा था. वह वहां अपने मामू के यहां रहता था। सुलेमान का ग्रेजुएशन का आखिरी साल था। हाल ही में वह बुखार से भी पी’ड़ित था, जिसके बाद वह नोएडा से बिजनौर के नाहातौर वापस अपने घर आ गया था।

सोर्स: द क्विंट