Corona संक्रमण के बीच सुर्खियों में आए तबलीगी जमात के बाद अब दारुल उलूम देवबंद ने सरकार से की पेशकश

कोरोना वायरस का कहर दुनियाभर में बढ़ता जा रहा है, इस भीषण महामारी का सामना देश भी कर रहा है. कोरोना के चलते देशभर में लॉकडाउन के बीच संक्रमित लोगों की संख्या बढ़ती जा रही है। इस बीच सोमवार को तेलंगाना से एक ऐसी खबर आई जिससे लोगों में दहशत फैल गई। दरअसल, तेलंगाना में कोरोना वायरस के चलते छह लोगों की मौत हो गई।

वही देश के हालातो को देखते हुए सहारनपुर में दारुल उलूम ने बड़ा फैसला लिया। दारुल उलूम देवबंद ने कोरोना वायरस की लड़ाई में अपना अहम योगदान देने के इरादे से प्रदेश के मुख्यमंत्री व जिले के आला अधिकारियों को अवगत करते हुए पत्र लिखा है। मोहतमिम मौलाना मुफ्ती अबुल कासिम नोमानी ने प्रदेश के मुख्यमंत्री को पत्र लिखकर कहा है कि संकट की इस घड़ी में देवबंद दारुल उलूम देश की जनता के साथ खड़ा हुआ है।

आपको बता दें देश में लगातार कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ती जा रही है, जिसको देखते हुए सरकार द्वारा लगातार आइसोलेशन वार्ड बनाए जा रहे हैं। उसी को देखते हुए दारुल उलूम ने भी एक बड़ा कदम उठाया है।

दारुल उलूम में 100 कमरों से अधिक का एक हॉस्टल है, जिसे खाली करा लिया गया है सरकार को अगर जरूरत पड़े तो दारुल उलूम के हॉस्टल को आइसोलेशन सेंटर बना सकती है। दारुल उलूम के प्रेस प्रवक्ता असरफ उस्मानी ने बताया कि दारुल उलूम ने एक पत्र मुख्यमंत्री व जिलाधिकारी को भेजा है,

जिसमे कहा गया है कि अगर सरकार को जरूत पड़े तो 100 कमरों से ऊपर वाले हॉस्टल को छात्रों से खाली कराकर सरकार उसे आइसोलेशन सेंटर बना सकती है।

पेशकश करते हुए उन्होंने कहा है कि देवबंद दारुल उलूम की ग्रांड ट्रक रोड के पास दारुल कुरान वाली बिल्डिंग है, अगर सरकार चाहे तो उस बिल्डिंग को आइसोलेशन वार्ड बना सकती है।

सरकार अलग-अलग स्थानों पर आइसोलेशन वार्ड बना रही हैं ऐसे में दारुल उलूम की बिल्डिंग को भी आइसोलेशन वार्ड के रूप में इस्तेमाल किया जा सकता है।