VIDEO: अब मुंबई में मुस्लि’म टैक्सी ड्राइवर को बे’रहमी से पी’टा लगवाए ‘जय श्रीराम’ के नारे

मुंबई: देशभर में बीजेपी शासित राज्यों में मुसलमानों पर दबं’गई के मामले सामने आ रहा हैं। हाल ही में झारखंड में 24 वर्षीय युवक तबरेज़ अंसारी की भी’ड़ द्वारा एक पोल से बां’धा कर पी’टा गया और जबरन जय श्री राम और जय हनुमान के नारे लगवाये गए उसके बेहो’श होने के बाद उसे प्रशासन को सौंप दिया गया लेकिन पुलिस हिरासत में उसकी मौ@त हो गई। अब नया मामला महाराष्ट्र के मुंब्रा में सामने आया है। जहां फैसल उस्मान खान नाम के मुस्लिम ड्राइवर की कुछ लोगों ने पिटा’ई की और जय श्रीराम कहने के लिए दबाव बनाया।

मुंबई से सटे ठाणे में एक मुस्लि’म ड्राइवर की कुछ लोगों ने पि’टाई की और जबरन जय श्रीराम कहने के लिए दबाव बनाया गया। इस संबं’ध में पुलिस ने केस दर्ज कर तीनों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है। गिरफ्तार किए गए आरोपि’यों के नाम मंगेश मुंडे अनिल सूर्यवंशी और जयदीप मुंडे है।

Image Source: Google

ओला कंपनी में काम करने वाले फैसल उस्मान खान नाम के मुस्लि’म ड्राइवर ने पुलिस में दी गई अपनी शिकायत में बताया कि रविवार को वे अगसन रोड से एक यात्री को अपनी कार में लेकर जा रहे थे। तो वही कुछ दूर जाने के बाद उनकी कार बंद हो गई। इसी दौरान बाइक पर सवार कुछ लोग उनके पास पहुंचे और पूछा कि कार क्यों बंद कर दी। इस दौरान बाइक पर सवार लोग ड्राइवर से बहस करने लगे।

बाइक सवार यहीं नहीं रुके उन्होंने उस्मान को गा’लियां भी देनी शुरू कर दी। जब ड्राइवर ने विरोध किया तो उसकी पि’टाई शुरू कर दी। ड्राइवर ने अपनी शिकायत में पुलिस को यह भी बताया कि उन लोगों ने मुझपर जय श्रीराम का नारा लगाने के लिए भी दबाव बनाया।

उस्मान ने बताया कि जब तीनों उसे मार रहे थे तो उसने कहा कि अल्लाह के वास्ते मुझे मत मारो, यह सुनकर तीनों युवक और भड़क गए। बोले कि तू मुसलमा’न है, अब जय श्रीराम के नारे लगा। इस दौरान उन्होंने न सिर्फ उसके साथ मारपी’ट की बल्कि उसे ध’मकी भी दी। बाद में तीनों आरो’पी युवक फैजल के पास मौजूद रुपए और उसका मोबाइल लेकर फरार हो गए।

वही पुलिस ने बताया कि इस मामले में गिरफ्तार आरोपियों ने अपना जुर्म कबूल कर लिया है। आरोपियों ने पुलिस को यह भी बताया कि जिस वक्त उन्होंने ड्राइवर की पि’टाई की थी उस वक्त वे न’शे में थे। आरोपियों को गिरफ्तार करने के बाद पुलिस ने उन्हें कोर्ट में पेश किया, जहां से उन्हें 29 जून तक पुलिस हिरासत में भेज दिया गया।