ओवैसी ने किया मोदी सरकार पर हमला, कहा- आपकी आस्था, आस्था और हमारी नहीं?

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार द्वारा संसद में पेश किये गए तीन तलाक बिल (तलाक-ए-बिद्दत) को लेकर गुरुवार को लोकसभा में जमकर हंगामा हुआ. इसी दौरान हैदराबाद से संसद असदुद्दीन ओवैसी ने तीन तलाक बिल को लेकर मोदी सरकार को घेरा. इस दौरान ओवैसी भारतीय जनता पार्टी की सरकार पर जमकर बरसे उन्होंने कहा कि आपकी आस्था, आस्था है और हमारी आस्था कुछ भी नहीं है. उन्होंने यह बात केरल के सबरीमाला मंदिर में महिलाओं के प्रवेश को लेकर आए सुप्रीम कोर्ट के फैसले का हवाला देते हुए कही.

ऑल इंडिया मजलिस-ए-इत्तेहादुल मुस्लिमीन (एआईएमआईएम) के मुखिया ओवैसी ने सरकार पर हमला करते हुए कहा कि जब सबरीमाला पर सुप्रीम कोर्ट का फैसला आया था तब आप अपनी आस्था की बात करते हैं. क्या मुस्लिमों की आस्था नहीं होती?

उन्होंने आगे कहा कि आपकी आस्था, आस्था है पर मेरी आस्था, आस्था नहीं है? उन्होंने इस बिल को संविधान का उल्लंघन बताते हुए सवाल किये कि क्या यह संस्कृति का उल्लंघन नहीं है? क्या यह संविधान के अनुच्छेद 29 का उल्लंघन नहीं है?

उन्होंने आगे कहा कि इस मामले को लेकर सरकार का इरादा साफ नहीं है. मैं सरकार से पूछना चाहता हूं कि आपकी क्या विवशता थी? जब समलैंगिकों को चुनने का अधिकार है तो फिर हमें विकल्प क्यों नहीं मिलता? यह बिल मुस्लिमों पर न्याय के लिए नहीं है.

ओवैसी ने कहा कि मैं इसका विरोध संविधान के अनुच्छेद 14, 15, 26 और 29 और उसकी प्रस्तावना के आधार पर कर रहा हूं. जिसके अनुसार सबको विचार, अभिव्यक्ति, आस्था और पूजा करने की आजादी मिलती है. बता दें कि इस दौरान यह बिल लोकसभा में पास हो गया है. इसे लेकर हुई वोटिंग में इसके पक्ष में २४५ वोट पड़े जबकि विरोध में सिर्फ 11 वोट दिए गए.