VIDEO: ओवैसी पर तंज कसने के चक्कर में अंजना ॐ कश्यप का मजाक बना, सोशल मीडिया पर लोगों ने खूब उड़ाई खिल्ली

ऑल इंडिया मजलिस ए इत्तेहादुल मुस्लिमीन AIMIM चीफ और हैदराबाद से सांसद चुने गए असदुद्दीन ओवैसी ने मंगलवार 18 जून को जय श्री राम और वंदे मातरम के नारे के बीच 17वीं लोकसभा में चौथी बार उर्दू भाषा में लोकसभा सदस्य के रूप में शपथ ली हालांकि शपथ ग्रहण के बाद ओवैसी ने भी जय भीम जय भीम और अल्लाह हू अकबर और जय हिंद कहा और नारे लगाने वालों की जमकर चुटकी ली।

दरअसल, ओवैसी जब शपथ ग्रहण के लिए अपनी सीट से उठे तो भाजपा के कुछ सांसदों ने जय श्रीराम और वंदे मातरम का नारा लगाना शुरु कर दिया। जय श्रीराम का नारा लगाते देखकर ओवैसी ने भी हंसते हुए अपने हाथों के इशारे से और जोर-जोर से नारे लगाने को कहा। शपथ ग्रहण पत्र लेते हुए उन्होंने प्रोटेम स्पीकर की ओर देखकर बीजेपी सांसदों की ओर इशारा किया। हालांकि शपथ ग्रहण के बाद ओवैसी ने जय भीम जय भीम तकबीर अल्लाह-हू-अकबर और जय हिंद का नारा लगाया।

Image Source: Google

इसी पर कटाक्ष करते हुये आजतक की स्टार एंकर अंजना ओम कशेयप ने ओवैसी पर ह’मला बोला। एंकर अंजना ओम कशेयप ने लिखा कि एक सांसद हैं । जब भी मेरे शो में आते हैं, कुछ नेताओं का नाम लेकर कहते हैं, ये जय श्रीराम के नाम पर नफ़रत फैलाते हैं। माननीय सांसद महोदय आज अल्लाह-हू-अकबर बोलकर आप भी कुछ फैला गए।

सदन में भाजपा और एनडीए के साँसदों द्वारा जय श्रीराम और वंदे मातरम के नारे लगाने लगे जिस पर ओवैसी ने जवाब देते हुये यह नारा लगाया था । लेकिन अंजना ने ट्वीट कर मामला को एकपक्षीय बनाने की कोशिश की लेकिन जनता सब जानती है ।बस किया था सब अंजना को ट्रोल करने में लग गए।

ट्रोलरो ने अंजना ओम कशेयप के ट्वीट को रीट्वीट करते हुए लिखा तिलमिला गयी तुम शुरुआत किसने की? और क्यों की? ये पूछने की औक़ात उन लोगों से नहीं है बस दलाली में नम्बर 1 हो

तो किसी ने लिखा बड़ा अंतर है। भगवा आ$तंकवाद जय श्रीराम कहे तो धार्मिक नहीं है जैसे ग्रीन आ@तंकवादी अल्लाह का नाम लेते हैं तो वो धार्मिक नहीं है। तो किसी ने कहा आज संसद में कुछ नाथू राम के नारे लगा रहे थे बस औवेसी ने आ$तंक का जवाब अल्लाह से दिया। वैसे जब नाथू राम ही जनता की पसंद है तो औवेसी को जाने देना था।

 

आपको बता दें सदन में पहले बीजेपी के नेताओं और एनडीए के साँसदों द्वारा जय श्रीराम के नारे लगाए लेकिन हमें पता है आप उनके बारे में कुछ नहीं बोल सकती क्योंकि उनसे दलाली लेनी है. ये संसद है कोई भाषण का मैदान नहीं था यह समझाओ पहले बीजेपी के नेताओं को।