VIDEO: वर्ल्ड कप से बाहर किए जाने पर फूट-फूटकर रोए मोहम्मद शहजाद कहा- अगर वो नहीं चाहते मैं खेलूं तो मैं संन्यास ले लूंगा लेकिन…

लंदन: अफगानिस्तान के शानदार सलामी बल्लेबाज और विकेटकीपर मोहम्मद शहजाद ने अपने क्रिकेट बोर्ड पर गंभीर आरोप लगाए हैं। बता दें अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड (ACB) ने छह जून को कहा था कि राष्ट्रीय टीम के विकेटकीपर मोहम्मद शाहजाद घुटने में चोट के कारण आईसीसी विश्व कप-2019 में नहीं खेल पाएंगे, लेकिन शाहजाद ने बोर्ड के इस बयान पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं।

32 वर्षीय शहजाद 24 मई को पाकिस्तान के खिलाफ वॉर्म-अप मैच के दौरान घुटने में चोट लगी थी. लेकिन बाद में उनको अफगानिस्तान के पहले दो वर्ल्ड कप मैचों में टीम में जगह मिली थी. न्यूजीलैंड के खिलाफ तीसरे मैच में उन्हें टीम में जगह नहीं मिली थी.शहजाद ने रविवार को अफगानिस्तान क्रिकेट बोर्ड के अधिकारियों पर विश्व कप के मैच में खिलाड़ियो के चयन को लेकर भेदभाव का आरोप लगाया है।

Image Source: Google

शाहजाद ने कहा है कि उनका घुटना चोटिल था लेकिन वह आराम करने के बाद आराम से खेल रहे थे. उन्होंने कहा कि न्यूजीलैंड के खिलाफ होने वाले मैच से पहले अभ्यास सत्र में उन्हें बोर्ड के उन्हें टूर्नामेंट से बाहर करने के फैसले के बारे में पता चला. शहजाद ने आगे कहा, मैंने मैनेजर से पूछा, जिन्होंने मुझे फोन अपनी जेब में रखने और डॉक्टर से बात करने के लिए कहा।

डॉक्टर ने मेरी ओर असहाय भाव से देखा और कहा कि वह कुछ नहीं कर सकते. मुझे नहीं पता कि समस्या क्या है. अगर उन्हें कोई समस्या है, तो उन्हें मुझे बताना चाहिए. अगर वे नहीं चाहते कि मैं खेलूं, तो मैं क्रिकेट छोड़ दूंगा।

शाहजाद ने कहा कि उनकी टीम के खिलाड़ियों को भी इस बारे में पता नहीं था, लेकिन बोर्ड के मुख्य कार्यकारी अधिकारी असदुल्लाह खान ने मीडिया में कुछ और बयान दिया है. उन्होंने कहा, वह (शाहजाद) जो कह रहे हैं वो पूरी तरह से गलत है, क्योंकि आईसीसी के पास मेडिकल रिपोर्ट दाखिल की गई है।

इसी के बाद उनके विकल्प के नाम का ऐलान किया गया. टीम एक अनफिट खिलाड़ी को नहीं उतार सकती. मैं समझता हूं कि वह विश्व कप से बाहर होने के कारण निराश हैं, लेकिन टीम फिटनेस के मुद्दे पर समझौता नहीं कर सकती।

वही अपने देश लौटने के बाद शहजाद ने मीडिया से बात करते हुए बताया कि उन्हें फिटनेस को लेकर कोई भी समस्या नहीं थी, लेकिन इसके बावजूद बोर्ड ने उन्हें विश्व कप से बाहर कर दिया। मुझे इसकी जानकारी तक नहीं दी गई, मुझे आईसीसी के फैसले के बारे में खबरों से पता चला।