सऊदी अरब और तुर्की के संबंध में आई दरार, सऊदी सरकार ने सऊदीयों के तुर्की में निवेश करने पर लगाई पावंदी

सऊदी अरब और तुर्की के संबंध में आई दरार, सऊदी सरकार ने सऊदीयों के तुर्की में निवेश करने पर लगाई पावंदी

पिछले काफी समय से दो मुस्लिम देशों सऊदी अरब और तुर्की के संबंध लगातार खराब होते जा रहे है. दोनों देशों के बीच पड़ी खटास की यह खाई लगातार गहरी होती जा रही है. इसी बीच सऊदी अरब ने तुर्की को एक बड़ा झटका दिया है. सऊदी अरब ने अपने नागरिकों को तुर्की में निवेश करने पर रोक लगा दी है जिसके चलते तुर्की के सामने बड़ा संकट आने का खतरा पैदा हो गया है.

रियाद चैंबर ऑफ कॉमर्स एंड इंडस्ट्री (RCCI) के अध्यक्ष अजलान अल-अजलान ने इस फैसले को सही ठहराने के लिए कई तर्क भी दिए है. उन्होंने बताया कि सऊदी निवेशकों को तुर्की में किसी भी निवेश को खराब करने की स्थिति और निवेशकों के लिए उच्च जोखिम को देखते हुए यह फैसला किया गया है.

Image Source: Google

आरसीसीआई ने बताया है कि उसे तुर्की में निवेश करने वाले सऊदी निवेशकों से कई तरह की शिकायतें भी मिल रही हैं. इन निवेशकों तुर्की में किया गया निवेश उन्हें ख’तरे में डाल रहा है जिससे वह कई तरह की समस्याओं का सामना कर रहे है.

उन्होंने निवेशकों की सुरक्षा के लिए अपने कर्तव्यों का निर्वहन करने में तुर्की अधिकारियों की ओर से की गई लापरवाही को इसका जिम्मेदार ठहराया है.

रविवार को अल-अजलान ने ट्वीट किया कि तुर्की में सऊदी निवेशकों को परेशान करने और वहां प्रभावशाली संस्थाओं द्वारा कुछ मामलों में जबरन वसूली करने के चलते साथ ही महत्वपूर्ण नुकसान की धमकी भी दी जा रही है.

रियाद कक्ष तुर्की में निवेश जोखिम और तुर्की में वर्तमान अस्थिर सुरक्षा स्थिति के कारण निवेश करने के खिलाफ चेतावनी जारी की है. अल-अजलान ने कहा कि सऊदी पर्यटक उत्पी’ड़न और धोखाध’ड़ी के बढ़ते मामलों का लगातार सामना कर रहे हैं.

ऐसे कई उदाहरण हैं जहां सऊदी के संपत्तियों के मालिकों को अपने घरों में प्रवेश करने से तक रोका गया है और स्वामित्व के कामों से वंचित किये जाने के भी कई मामले सामने आए है. जबकि ऐसे उत्पीड़’न मामलों को समाप्त करने के लिए तुर्की अधिकारियों की तरह से कोई ठोस कदम नहीं उठाए गए.

Leave a comment