VIDEO: सगे मुस्लिम भाई बहन को हिन्दू बताकर रे’प की झूठी अ’फवाह उड़ाई, सच सामने आया

दोस्तों सोशल मीडिया पर अक्सर आपने देखा होगा कि यदि कोई उर्दू नाम वाला शख्श, गलत काम करता पकड़ा जाता है या उससे कोई गलती हो जाती है. तो वह सोशल मीडिया में नफरत फैलाने वाले लोगों द्वारा कितना वायरल कराया जाता है. ऐसी ही एक घट’ना अभी हाल ही की है जिसमें दो सगे मुस्लिम भाई बहन को हिन्दू बताकर उस लड़की के फोटो और विडियो शेयर करके लोगों को यह कहकर भड़काया जा रहा है.

इनके फोटो और विडियो को साझा करते हुए लोग लिख रहे हैं कि 4-5 मुस्लिम लड़कों द्वारा इसके साथ जबरजस्ती करने की कोशिश की गयी थी. जागो हिन्दू जागो प्रशासन सुन नहीं रहा है. जब इस घट’ना से सम्बंधित हमने सोशल मीडिया और कुछ विश्वश्नीय न्यूज़ वेबसाइट को चेक किया तो मामला कुछ और ही निकला.

हमने हड़ताल के दौरान पाया कि यह मामला तो कुछ और ही है, इन दोनों भाई बहन के वीडियो को गलत मैसेज के साथ वायरल कराने का उद्देश्य फिलहाल पता नहीं लग पाया है. लेकिन जो इसका असली सच है, वह हम आपको बताने जा रहे हैं.

लेकिन इससे पहले हम लोग नीचे उन लोगों के बारे में बताते हैं, जो सोशल मीडिया पर जन समुदाय के बीच जह’र फैलाने का काम कर रहे हैं. लोगों के बीच नफर’त फैलाने का काम कर रहे हैं.

साध्वी देवा ठाकुर नाम का एक पेज है, जिसके द्वारा यह पोस्ट 25 जून को शेयर किया गया था और पोस्ट लिखे जाने तक इसके 1,800 share और 2000 से भी ज्यादा लाइक आ चुके थे. और लगभग 450 से भी ज्यादा लोगों ने इस पोस्ट पर कमेंट किया था. इस फेसबुक पेज की 2 लाख 24,000 से भी ज्यादा लाइक हैं और इसके 2 लाख 60,000 से भी ज्यादा फॉलोवर हैं.

#लखनऊ
यह घटना इंटोजा थाना क्षेत्र की 24 जूनकल की है, शांतिप्रीय कोम के इस्लाम, और चार पांच लोग और इसकी बहन का रे’प करने आए इसने रे’प नही करने दिया तो इसकी बहन और दोनों को बुरी तरह पीटा, #जागो हिंदू जागो आप लोगों का अंत निश्चित है. और इस घटना में क्या पुलिस वाले इन्हें अस्पताल पहुंचा सकते थे, पर दुर्भाग्य देखिए हमारे देश के शासन का.

प्रसासन इस भाई बहिन के साथ न्याय करे अब ये मामला हिन्दू समाज पार्टी के सज्ञान में आ गया है। कोई मुझे जानकारी दे ये भाई इटोंजा में कहा रहते हैं।
कमलेश तिवारी जी

आपको बता दें कि गौरव गोस्वामी नाम के इस फेसबुक यूजर ने अपना उपनाम फेसबुक में हिंदू समाज पार्टी भी दे रखा है. और इनकी फेसबुक प्रोफाइल पर जाने के बाद आपको दिखेगा की ये किसी संगठन से जुड़े हुए हैं. और इनकी तमाम पोस्टें हिंदू मुस्लि’म पर आधारित है. फेसबुक पर गौरव गोस्वामी नाम की आईडी के 4000 से भी ज्यादा फॉलोअर हैं

दोस्तों इस तरह की और भी कई फेसबुक प्रोफाइल और फेसबुक पेज के द्वारा इस पोस्ट को कईयों बार शेयर किया गया है, लेकिन कुछ ही घंटों बाद इसकी असलियत सामने आ गई है. अधिकतर हिंदी न्यूज़ वेबसाइटों ने इस पोस्ट को प्रमुखता से लगाया है इसके असली होने का प्रमाण आप वहां जाकर भी देख सकते हैं.

क्या है हकीकत इस वायरल विडियो की?

दरअसल हुआ यह कि घर के सामने कुछ बच्चे खेल रहे थे, जो खेल खेल में आपस में झग’ड़ा करने लगे और वही इन बच्चों का झग’ड़ा युवकों तक आ पहुंचा और वह भी आपस में भिड़ गए, और इस बात को लेकर मामला बिगड़ गया और गाँव में रहने वाले दोनों पक्षों में विवा’द और मारपीट हो गई.

इस वीडियो में दिख रहे दोनों भाई बहन शाहरुख और शबनम हैं, जो लखनऊ के इटौंजा थाना क्षेत्र के रहने वाले हैं. थाना इटौंजा में रात तकरीबन 1:30 बजे इनकी एफ.आई.आर भी दर्ज कर ली गई है, और अपराधियों की गिरफ्तारी के लिए टीम गठित करके भेज दी गई.

इस मामले की जांच का जिम्मा सीओ बीकेटी को दिया गया है. बताया जाता है कि जब यह दोनों घायल’ भाई बहन मारपीट के बाद राजधानी के इटौंजा थाने की महंगवा चौकी रिपोर्ट दर्ज कराने चौकी पहुंचे तब  सिपाहियों द्वारा उनको f.i.r. लिखने की वजाए कहा कि थाने जाओ.

वेबसाइट पर जो वीडियो है, उसमें लड़की का भाई बोल रहा है कि ‘क्या यहां हमारी कोई सुनवाई नहीं होगी सर’ तो पुलिस वाला बोलता है कि यहां तुम्हारा मेडिकल हो जाएगा लेकिन रिपोर्ट तो खुद लिखकर लानी पड़ेगी.

इस घट’ना के बाद जब सोशल मीडिया में यह मामला वायरल हुआ तो इस मामले में उस सिपाही को लाइन हाजिर कर दिया गया है.