मस्जिद अल हरम के में गेटों पर ‘स्क्रीनिंग गेट’ लगाए गए, अत्याधुनिक सैनिटाइज़र मशीन इस्तेमाल की गयी

रियाद: कोरो’ना के चलते दुनियाभर में लॉक डाउन की स्तिथि बनी हुयी है. पिछले काफी हफ़्तों में अगर देखा जाय तो अभी तक किसी भी देश को कोरो’ना की दावा या उसका कोई समाधान नहीं मिला है. इधर अरब देशों में भी रमजान के पाक़ महीने में लॉक डाउन की वजह से जो यहाँ नूर बरसता है, वो देखने को नहीं मिल रहा.

सऊदी अरब की सरकार ने मस्जिद अल हरम के मुख्य दरवाज़ों पर, कोरो’ना से बचाव के लिए कुछ सुरक्षा उपाय किये हैं. जिसके तहत उन्होंने ‘मस्जिद अल हरम’ के में गेटों पर अत्याधुनिक तकनीक से सुसज्जित सैनिटाइज़र गेट बनाकर लगाया है. जिसमे से नमाजियों को गुज़रना होगा.

Masjid Al Haram Gate in Saudi Arabia

मस्जिद अल हरम के मुख्य प्रवेश द्वारों पर यह सैनिटाइज़र गेट, नमाजियों को स्क्रीनिंग करेगा. जिसके ज़रिये हर नमाज़ी का पूरा जिस्म इस सैनिटाइज़र वॉक-थ्रू गेट के ज़रिये चेक हो जायेगा. इससे यह पता लगाने में आसानी होगी कि किसी को कोर’ना तो नहीं है.

आपको बता दें कि मस्जिद अल-हरम में हमेशा सुरक्षा के लिहाज़ से अत्याधुनिक तकनीक से बनी मशीनों को काम में लिया जाता है. सऊदी मुल्क अपने देश के अलावा यहाँ आने वाले हर विदेशी नागरिक की सुरक्षा के नज़रिए से कही सचेत रहता है.

मस्जिद अल हरम में फिलहाल बाहरी नमाज़ी तो नहीं आ रहे हैं, लेकिन इस ‘सैनिटाइज़र वॉक-थ्रू गेट’ को लगाने का मकसद उस हर नमाज़ी को भी सुरक्षा देना है, जो मस्जिद अल हरम का स्टाफ है. इससे कोरो’ना से प्रभावित व्यक्ति की पहचान आसानी से हो सकेगी. जिससे वहां पर काम करने वाले सैकड़ों लोगों को सुरक्षित रखा जा सकता है.

 Self-Sanitization Gates In Mecca's Grand Mosque

कोरो’ना की वजह से सऊदी अरब की सभी मस्जिदों में नमाज पर रोक लगा दी गई थी, फिर उसके बाद रमजान का मुकद्दस महीना आया जिसके चलते यह फैसला लिया गया कि मस्जिद को सूना नहीं रखा जाएगा. उसे आम लोगों के लिए नहीं खोला जाएगा बल्कि उसमें वहीँ का स्टाफ नमाज अदा करके, तरावीह पढ़कर मस्जिद को आबाद रखेंगे.

फिलहाल इस साल इस्लामिक देशों में रमजान के मुकद्दस महीने में मुसलमानों पर एक मायूसी छाई हुई है, क्योंकि रमजान के महीने का मुसलमान को बेसब्री से इंतजार होता है, फिर वह चाहे अरब देश में हो या भारतीय या फिर और किसी अन्य मुस्लि’म देश के नागिरक.

इसके अलावा सऊदी अरब में उमराह और हज यात्रा के लिए जाने वाले लोगों को भी काफ़ी मायू’सी का सामना करना पड़ रहा है. अभी इसमें यह भी नहीं कह सकते कि यह सब कुछ स्थिति कब तक के लिए बनने वाली है. लॉक डाउन के चलते अभी सभी विदेशी यात्राओं पर रोक लगी हुई है, इसके अलावा कोई भी देश यह नहीं चाहता की कोई बहरी व्यक्ति बीमा’री लेकर हमारे देश में आये.

Leave a comment