शबाना आज़मी ने केंद्रीय सरकार पर बरसी, कहा- देश की बुराई पर बोलने वाले को देशद्रोही बना दिया जाता है क्या…

पिछले काफी समय से देश में राष्ट्रवाद का एक अलग सा माहौल बना हुआ है. एक ऐसा माहौल जहां सरकार के खिलाफ कुछ बोलने या सरकार की बुराई करने पर आपको देशद्रोही घोषित कर दिया जाता है. सत्तारूढ़ भारतीय जनता पार्टी के कई नेता से लेकर मंत्री तक के लोग अक्सर ही देश की समस्याओं पर बोलने वालों को देशद्रोही और पाकिस्तान जाने की सलाह देते हुए नजर आते है.

इसी को लेकर बॉलीवुड अभिनेत्री शबाना आज़मी ने केंद्रीय सरकार पर तीखे शब्दों में हमला बोला. मशहूर उर्दू शायर कैफ़ी आज़मी की 100 वी जयंती में अवसर पर आयोजित एक कार्यक्रम में हिस्सा लेने पहुंची शबाना ने एक महिला के सवाल पर तीखी प्रतिक्रिया दी.

मशहूर अभिनेत्री शबाना आजमी ने कहा है कि बुराई के खिलाफ बोलने पर आपको देशद्रोही करार दे दिया जाता है. देश में चल रही किसी भी बुराई के खिलाफ आपको कुछ भी कहने की इजाजत नहीं है. जबकि एक देशभक्त देश में फैली बुराई की आलोचना करता है क्योंकि वह देश की भलाई चाहता है.

वह देश को अच्छा देखना चाहता है लेकिन सच यह है कि राष्ट्रवादी कुछ भी अपने खिलाफ सुनना नहीं चाहता है. राष्ट्रवाद और देशभक्ति में अंतर है लेकिन इसे राजनीतिक के लिए मुद्दा बना दिया गया है. यह बहुत ही गलत है. यह देश हित में नहीं है. हमें इसके चक्कर में नहीं पड़ना चाहिए.

वहीं शबाना के पति और प्रसिद्ध गीतकार जावेद अख्तर ने लोगों के बीच में माइक ले जाकर लोगों से पूछा कि क्या बेटियों की सुरक्षा को लेकर सवाल पूछना गलत बात है. क्या ये देशद्रोह है, बहुत से लोग ऐसी ही गड़बड़ पर सवाल उठाते हैं लेकिन उन्हें देशद्रोही कह कर पुकार दिया जाता है.

इसी दौरान एक व्यक्ति ने जावेद अख्तर से पूछा कि वह इन दिनों फिल्मों के लिए गीत क्यों नहीं लिख रहे. इस बार उन्होंने कहा कि आज के गीतों में साउंड बहुत तेज है जिससे गीतकार की आवाज दब रही है. इसलिए अब उनका गाने लिखने का मन नहीं करता है.