तीन-तलाक़ बिल पर शशि थरूर का बड़ा बयान, इस्लाम का हवाला देते हुए कही बड़ी बात

नई दिल्ली: केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद ने शुक्रवार को हं’गामे के बीच नया विधेयक लोकसभा में पेश किया। इस विधेयक को लेकर कांग्रेस एआईएमआईएम समेत विपक्ष दलों ने इसका विरोध किया, इसके बाद पेपर स्लिप से वोटिंग कराई गई। कांग्रेस नेता शशि थरूर ने कहा कि तीन तलाक बिल मुस्लिम परिवारों के खिलाफ है। हम इस बिल का समर्थन नहीं करते। एक समुदाय के बजाय सभी के लिए कानून बनाना चाहिए। वही सरकार ने कहा है कि कांग्रेस का विरोध दुर्भाग्यपूर्ण है। इस विधेयक पर सोमवार को चर्चा होगी।

लोकसभा में पेश किये गए विधेयक को लेकर कांग्रेस पार्टी की तरफ से सांसद शशि थरूर ने विरोध किया। उन्होंने कहा कि सरकार की ओर से जो बिल लाया जा रहा है, वह संविधान के खिलाफ है। अमर उजाला में छपी खबर के मुताबिक, शशि थरूर ने सदन में कहा कि मैं इस बिल के पेश किए जाने का विरोध करता हूं। उन्होंने कहा कि मैं तीन तलाक का समर्थन नहीं करता हूं लेकिन इस बिल के विरोध में हूं।

Image Source: Google

कांग्रेस नेता शशि थरूर बोले कि ये बिल संविधान के खिलाफ है, इसमें सिविल और क्रिमिनल कानून को मिला दिया गया है। अगर सरकार की नजर में तलाक देकर पत्नी को छोड़ देना गुनाह है, तो ये सिर्फ मुस्लिम समुदाय तक ही सीमित क्यों है। उन्होंने कहा कि क्यों ना इस कानून को सभी समुदाय के लिए लागू किया जाना चाहिए।

कांग्रेस की ओर से कहा गया कि सरकार इस बिल के जरिए मुस्लिम महिलाओं को फायदा नहीं पहुंचा रही है बल्कि सिर्फ मुस्लिम पुरुषों को ही सजा दी रही है। शशि थरूर ने तर्क रखा कि जब सुप्रीम कोर्ट ने ही तीन तलाक को गैरकानूनी घोषित कर दिया है, तो सरकार सजा किस बात की दे रही है।

Image Source: Google

उन्होंने कहा कि इस बिल का किसी भी तरह गलत इस्तेमाल किया जा सकता है। जिसमें मुस्लिम पुरुषों को तलाक देने पर तीन साल की सजा की बात कही है, लेकिन इन तीन साल में महिलाओं और बच्चों का ध्यान कौन रखेगा। कांग्रेस की ओर से मांग की गई है कि बिल को स्टैंडिंग कमेटी के पास भेजा जाए और इस पर सही तरीके से चर्चा हो। सभी तरह की राय पर विचार किया जाए।

आपको बता दें कि तीन तलाक बिल को पिछले कार्यकाल में भी सरकार ने लोकसभा में पेश किया था, जहां ये पास हो गया था लेकिन राज्यसभा में पास नहीं हो पाया था। कार्यकाल खत्म होने के साथ ही पुराना बिल रद्द हो गया और अब बिल को दोबारा पेश किया जा रहा है।

Leave a comment