पति ने तलाक देकर घर से भगाया, ऑटो चलाकर तीन बच्चों को पाल रही शिरीन, वायरल हो रही स्टोरी

नई दिल्ली: मुंबई की एक मुस्लिम महिला की कहानी फेसबुक पर वायरल हो रही है। मुंबई की रहने वाली शिरीन पेशे से ऑटो ड्राइवर हैं। ह्यूमन ऑफ बॉम्बे नाम के फेसबुक पेज ने उनकी जिंदगी की कहानी को साझा किया है। शिरीन ने बताया है कि कैसे एक गरीब और रुढ़िवादी मुस्लिम परिवार में पैदा होने के बाद उन्होंने खुद को खड़ा किया और आज एक ऑटो ड्राइवर के तौर पर जिंदगी जी रही हैं। शिरीन ने जो लिखा है आप उसे पढ़कर जिंदगी जीना सीख जाओगे।

शिरीन लिखती हैं, मैं एक रूढ़िवादी और गरीब मुस्लि’म परिवार में पैदा हुई। जब मैं 11 साल की थी, तब तक मेरे माता-पिता का तलाक हो गया। मेरी माँ ने फिर से शादी की। मेरी मां अपनी जिंदगी को जीना चाहती थी लेकिन लोगों को ये कैसे रास आ सकता था? दूसरी शादी के कुछ महीने बाद, मेरी माँ और मेरा भाई घर के बाहर थे तो कुछ लोगों ने उन पर छींटाकशी की। उनकी दूसरी शादी की बात कह उनके चरित्र पर सवाल उठाना सुरु कर दिए।

Untitled
Image Source: Google

लोगो के तने मेरी मां बर्दाश्त नहीं हुए और उन्होंने उस रात खु’द को आग लगाकर खुदकु’शी कर ली। शिरीन आगे बताती हैं, मेरे लिए मां को खोना सबसे मुश्किल चीजों में से एक था लेकिन मुश्किलें यहां खत्म नहीं हुई थीं। एक साल के बाद मेरे पिता ने मेरी और मेरी बहन से शादी कर दी। मेरी बहन के ससुराल वालों ने उसे दहेज के लिए तंग किया, और जब वह गर्भवती थी, तो उन्होंने उसे जहर देकर मार डाला।

जिन दो लोगों को मैं सबसे ज्यादा प्यार करती थी, उन्हें मैंने खो दिया। मुझे लगता था कि अब मैं भी नहीं बचूंगी लेकिन जब मैं गर्भवती हुई और मेरा बेटा इस दुनिया में आया, तो मेरे पास उसके लिए आगे बढ़ने के अलावा और कोई विकल्प नहीं था। मुझे लगा कि अब मैं बेटे के लिए जिंदा रहूंगी और इसे पालूंगी।

शिरीन के तीन साल बाद एक और बेटा हुआ और तीसरे बच्चे के बाद पति ने शिरीन का साथ छोड़ दिया। उसने तीन बार तलाक कहा और मुझे अपने बच्चों को लेकर घर से निकलना पड़ा। मुझे सड़क पर अकेला छोड़ दिया गया। बच्चों का पेट भरने की चुनौती मेरे सामने आ खड़ी थी, मैंने कोई काम करने की सोची। मैंने एक छोटी बिरयानी स्टाल लगाई, एक दिन बाद ही बीएमसी ने आकर इसे तोड़ फोड़ कर खत्म कर दिय। मेरे पास कोई विकल्प नहीं था, तो मैंने अपनी सारी बचत से रिक्शा खरीदा और चलाने लगी।

रिक्शे से जब मैंने अच्छी कमाई की, लेकिन बहुत सारे लोगों ने मुझे परेशान किया। दूसरे रिक्शा चालक भी जानबूझकर मेरे साथ खराब बर्ताव करते थे। धीरे-धीरे मैं इससे निकली और इतना कमाने लगी कि घर चला सकूं। एक साल हो गया है, और मैं अपनी आमदनी से घर को चला रही है।

maa
Image Source: Google

मैं अपने बच्चों को वह सब देता हूं जो वे अपने लिए मांगते हैं। मैं उन्हें एक कार खरीदना चाहता हूं और जल्द ही ऐसा करने की उम्मीद है। यहां तक ​​कि मेरे यात्री मुझे बहुत अच्छा महसूस कराते हैं, मेरे लिए कुछ ताली बजाते हैं, मुझे अच्छी तरह से टिप देते हैं और मुझे गले भी लगाते हैं।

Add a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *