उर्दू का विरो'ध करने वाली शिवसेना ने चुनाव प्रचार के लिये उर्दू में लगाये होर्डिंग, लिखी ये बात

उर्दू का विरो’ध करने वाली शिवसेना ने चुनाव प्रचार के लिये उर्दू में लगाये होर्डिंग, लिखी ये बात

महाराष्ट्र में विधान सभा का चुनावी माहौल खूब ज़ोर शोर से देखने को मिल रहा है| सभी पार्टियां अपने अपने प्रचार प्रसार में जुटी हुई है, सब अपने अपने तरीकों से अपनी पार्टियों का प्रचार कर रहे हैं| बता दें कि इन दिनों महाराष्ट्र में विधानसभा चुनाव के लिये तारीख का ऐलान हो चुका है जिसके चलते सभी पार्टियों ने अपनी कमर कास ली है| ऐसे में शिव सेना भी अपने प्रचार प्रसार की नए नए तरीके खोज जनता को लुभाने की कोशिश कर रही है और अपनी पूरी तैयारी के साथ मैदान में उतर चुकी है|

आपको बता दें कि इस बार के विधान सभा चुनाव में एक खास बात ये है कि ठाकरे परिवार से पहेली बार कोई सदस्य मैदान में उतरने जा रहा है, इसीलिये अपने राजनीति जीवन के शुरुआत से ही मराठी मानुस और मराठी अस्मिता के नाम पर राजनीति करने वाली शिवसेना ने साल 2019 के विधानसभा चुनाव में शायद अपनी विचारधारा में थोड़ा सा बदलाव अपनाया है।

ठाकरे द्वारा अपने राजनितिक जीवन में बदलाव इसलिए कहा जा रहा है क्यूंकि इस बार शिवसेना के प्रचार में मराठी ही नहीं बल्कि कई भारतीय भाषाओं की झलक देखने को मिल रही है। जिसके चलते शिव सेना इस बार अपने प्रचार-प्रसार के लिए उर्दू में भी होर्डिंग्स लगाए हैं|

आपको बता दें कि यह वही शिव सेना है जो कभी उर्दू का ज़ोरो शोर से विरोध किया करती थी और आज अपने राजनितिक जीवन की रोटियां सीखने के लिए इसी का सहारा ले रही रही| जिसके चलते पूरे महाराष्ट्र में उन्होंने अपने होर्डिंग्स कई अन्य भाषाओं के साथ उर्दू में भी प्रचार किया है|

जानकारी के लिए बता दें कि शिवसेना, भाजपा और खुद के लिए 50:50 के अनुपात में सीटों का बंटवारा चाह रही है। जिसके तहत दोनों पार्टियों को 135-135 सीटें मिलेंगी और 288 सदस्यीय विधानसभा में 18 सीटें छोटी पार्टियों के लिए छोड़ी जाएंगी।

साथ ही आपको बता दें कि महाराष्ट्र विधानसभा के लिए चुनाव 21 अक्टूबर को होंगे और इसके नतीजे 24 अक्टूबर को घोषित किए जाएंगे। अब देखना यह है कौन सी पार्टी इस चुनाव में बाज़ी मारती है|

Leave a comment