दुबई में फंसे सोनू निगम ने भारत सरकार से मांगी मदद, नितिन गडकरी ने कहा- पहले दो नंबर के काम…

नई दिल्ली: कोरोना वायरस की वजह से हुए लॉकडाउन में फंसे सोनू निगम, नितिन मुकेश, तलत अजीज समेत फिल्म इंडस्ट्री में लाइव इवेंट परफॉर्मेंस से जुड़े 15 आर्टिस्ट केंद्रीय ट्रांसपोर्ट हाइवे और MSME मंत्री नितिन गडकरी से मदद मांगने आगे आए. इनमें म्यूजिशियंस, टेक्नीशियन,सिंगर्स भी थे. वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए नितिन गडकरी ने सभी से बात करी।

सोनू निगम ने बात की शुरुआत करते हुए कहा कि लॉकडाउन की वजह से लाइव परफॉर्मेंस कैंसिल हो गए हैं, लोगों को काम नहीं मिल रहा ,कुछ करना चाहिए. सोनू निगम की बात को इंडस्ट्री के एक सदस्य मनीष ने आगे बढ़ाया कहा कि अगले 1 साल तक की बुकिंग रद्द है, हमारे पैसे फंसे हुए हैं. सोशल डिस्टेंसिंग की वजह से भीड़ जुटाने पर भी पाबंदी है।

IPL, IIFA, Google, Facebook, IBM ने आधिकारिक रूप से इवेंट कैंसल करने की घोषणा की है. जबकि इस इंडस्ट्री में बहुत सारे लोग जुड़े हुए हैं, लाइव परफॉर्मेंस के लिए भारी भारी उपकरण में करोड़ों रुपए लगे हुए हैं, जो EMI से लिए गए हैं. इनको वेयरहाउस में भी रखा जाता है जिसका किराया भी लग रहा है. साथ जुड़े लोगों को सैलरी देना बड़ा मुश्किल हो रहा है।

विद्युत शाह ने कहा कि पैकेज नहीं मिलेगा तो इंटरटेनमेंट इंडस्ट्री तबाह हो जाएगी और विदेशी लोगों के कब्जे में चली जाएगी क्योंकि उनके पास साधन, है लेकिन हमारे पास कुछ नहीं हैं।

एक और सदस्य जो बतौर एडवोकेट शामिल हुई सोनिया, उन्होंने कहा कि ऐसी स्थिति में लाइव इवेंट परफॉर्मेंस इंडस्ट्री को MSME का दर्जा देना चाहिए, रियायतें देना चाहिए और EMI चुकाने में राहत देना चाहिए।

इस पर केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने कहा कि जो लोग आपसे जुड़े हैं उनको सरकारी योजनाओं का फायदा दिलवाएं, जैसे कि मेडिकल खर्च के लिए आयुष्मान योजना, जन-धन योजना, श्रमिकों के लिए योजना।

गडकरी ने कहा कि आप लोगों को MSME के तहत रजिस्ट्रेशन करवाना ही चाहिए. मेरे हिसाब से लोग रजिस्ट्रेशन करने में डरते हैं, यह सोचते हैं कि टैक्स अथॉरिटी को बताना पड़ेगा, कंप्लायंस पूरे करने पड़ेंगे, इस चक्कर में नंबर वन की जगह नंबर 2 वाली लाइन चुनते हैं. इसलिए योजनाओं का फायदा पूरा नहीं मिल पाता है.

जबकि सबको मुख्यधारा में आने की जरूरत है. 2 नंबर का काम तुरंत रोकने की जरूरत है. नंबर 1 में काम करने से टैक्स भी बचेगा और सभी तरह के बेनिफिट भी मिलेंगे. सरकार को भी पता रहेगा कि किस तरह की योजनाएं इस सेक्टर के लिए लानी हैं.

गडकरी ने कहा कि मैं लॉजिस्टिक पार्क के लिए जमीन देने के लिए तैयार हूं .आप अपने वेयरहाउस वहां बनवाइए, लोगों के स्किल डेवलपमेंट का काम कीजिए, टैलेंट के आधार पर वेल्थ बनाइए. इसके बाद नितिन गडकरी ने निराशा दूर करने के लिए मोटिवेशनल किस्से भी सुनाए और ये भी कहा कि तुरंत सारी मांग लिखकर दे दो ताकि उस पर अभी काम शुरु हो जाए.

नितिन गडकरी की बात सुनकर नितिन मुकेश ने कहा कि पहले हम डर रहे थे, पर आपकी बात सुनकर बहुत अच्छा लग रहा है, हालांकि दो नंबर वाली बात पर किसी ने भी कोई रिएक्शन नहीं दिया.