गृह मंत्रालय की रडार पर आईं श्रीनगर की मस्जिदें, श्रीनगर के सभी अधिकारियों को दिया ये आदेश

श्रीनगर: कश्मीर घाटी में सुरक्षाबलों की 100 से ज्यादा कंपनियों की तैनाती की गई है। तमाम कंपनियां कश्मीर पहुंच गईं हैं। बाकि कुछ कंपनियां जल्द से जल्द घाटी पहुंचेंगी। केंद्रीय गृह मंत्रालय ने यह कदम राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एनएसए अजीत डोभाल के घाटी के सीक्रेट मिशन पर आने के तत्काल बाद उठाई है। इस फैसले ने कश्मीर घाटी में राजनीतिक दलों व अ’लगाववादि’यों में हलचल तेज कर दी है। सुरक्षा के लिहाज से अतिरिक्‍त सुरक्षाबलों की तैनाती के फैसले के बाद अब गृह मंत्रालय के रडार पर श्रीनगर की सभी मस्जिदें भी आ गई हैं।

श्रीनगर के जिला पुलिस मुख्‍यालय के लेटर हेड पर एसएसपी की ओर से इस संबंध में श्रीनगर के सभी पुलिस अधीक्षकों को पत्र जारी किया गया है. एसएसपी की ओर से यह पत्र एसपी सिटी साउथ जोन श्रीनगर एसपी सिटी हजरतबल जोन श्रीनगर एसपी सिटी नॉर्थ जोन श्रीनगर एसपी सिटी ईस्‍ट जोन श्रीनगर और एसपी सिटी वेस्‍ट जोन श्रीनगर को जारी किया गया है।

इस लेटर में कहा गया है कि अपने अधिकार क्षेत्र में आने वाली सभी मस्जिदों के संबंध में उपयुक्‍त जानकारी जल्‍द से जल्‍द उपलब्‍ध कराइ जाये ताकि इसको उच्‍च स्‍तर के अमले के पास भेजा जा सके. आपको बता दें कि राज्य में आ$तं’की गतिविधियों को रोकने के लिए मोदी सरकार ने यहां अतिरिक्त सुरक्षाबलों की तैनाती का फैसला लिया है।

राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार एनएसए अजित डोभाल के तजम्मू कश्मीर दौरे से लौटते ही वहां 10 हजार अतिरिक्त सुरक्षा बल भेजने का फैसला लिया गया है. लेकिन गृह मंत्रालय के इस फैसले पर पूर्व आईएएस अधिकारी और जम्मू-कश्मीर पीपल्स मूवमेंट जेकेपीएम के अध्यक्ष शाह फैसल ने चिं’ता जताई है।

उन्होंने कहा है कि जम्मू में इस बात को लेकर अफवाह है कि घाटी में कुछ बड़ा होने वाला है। शाह फैसल ने ट्वीट कर कहा गृह मंत्रालय की ओर से कश्मीर में सीआरपीएफ के 100 अतिरक्त जवानों की कंपनी तैनात करना चिंता पैदा कर रहा है। इसके बारे में किसी को जानकारी नहीं है।