मिलिए ISIS के कब्ज़े वाले इराक़ की पहली दबंग महिला सांसद सुहाद अल खतीब से

सद्दाम हुसैन के बाद इराक़ का अगर कोई जुल्मी तानाशाह रहा है तो वो है दुनिया का सबसे खूंखार आतंकी संगठन ISIS जिसने सैलून तक इराक़ पर अपना कब्ज़ा जमाया हुआ था. लेकिन फिलहाल इराक़ में अब अमन है और वहां के लोग खुशहाली की और बाद रहे हैं. दोस्तों जो लाल कपड़ों में आप इन खातून को देख रहे हैं वो इराक़ की एक बेहद निडर और हिम्मतवाली महिला हैं.

इनका नाम ‘सुहाद अल-खतीब’ है इनको इराक़ की पहली महिला सांसद होने का खिताब मिला है. जिस इराक़ पर अभी कुछ महीने पहले ISIS का कब्जा था अब वहां के लोगों ने इनको सांसद के रूप में चुना हैं. आपको बता दें की ISIS के आतंकियों का इराक़ के कब्ज़े वाले क्षेत्रों से सफाया हो जाने के बाद इराक में पहला चुनाव हुआ और इस चुनाव में 6 दलों के कम्युनिस्ट गठबंधन को जीत हासिल हुई.

अभी फिलहाल सरकार बनाने की प्रक्रिया बाकी है, लेकिन इराक अब बदलाव की और है और अब यहाँ बहुत कुछ पहले से हटकर कुछ ऐसा हो रहा है जो कुछ ही सैलून में इराक में चली आ रही पुरानी धारणाओं को एक नया रूप देगा.आपको ये जान कर हैरत हो सकती है की ये बदलाव की और अग्रसर इराक़ नाम के देश को अब सारी दुनिया समेत वो मुस्लिम देश भी देख रहे हैं जो सदियों से अपने यहाँ कुछ खास बदलाव विसेश्कर महिलाओं के लिए कुछ नहीं कर पाय हैं.

फिलहाल ये इराकी नागरिक अपने सांसद के जीतने की ख़ुशी में जश्न मनाते उन्हें अपने साथ ले जा रहे हैं. और यहाँ के लोगों का अब अमेरिका का विरोध अब मज़हब के वजाय राजनैतिक और वैचारिक तौर पर कर रहे हैं. और इस चुनाव में बड़ी संख्या में औरतों ने भी बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया था.मीडिया के एक सवाल पर सुहाद अल-खतीब का कहना है की “कम्युनिस्ट पार्टी इराक के लिए नई नहीं है, हमारा ईमानदारी भरा लम्बा इतिहास है, हम साम्प्रदायिकता के खिलाफ शुरू से ही थे और अब भी हैं.हम विदेशी पूंजीपतियों के एजेंट नहीं हम सामाजिक न्याय चाहते हैं सबके साथ एक बराबर वो भी बिना उंच नीच के और अब हमारी कोशिश येही है की हर इराकी अब इस बात को अच्छी तरह से समझ जाए.