महाराष्ट्र: सरकार बनाने को लेकर, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- कांग्रेस बोली संविधान का सम्मान हुआ

महाराष्ट्र: सरकार बनाने को लेकर, सुप्रीम कोर्ट का बड़ा फैसला- कांग्रेस बोली संविधान का सम्मान हुआ

महाराष्ट्र में जब से चुनाव हुए हैं, उसके बाद से ही वहां सरकार बनाने को लेकर काफी खींचतान चल रही है. और अभी हाल ही में आनन-फानन में देवेंद्र फडणवीस को सुबह 8:00 बजे ही मुख्यमंत्री पद की शपथ दिला दी थी. जिसके बाद से ही तमाम राजनीतिक विश्लेषकों में नाराजगी देखी जा रही थी. क्योंकि कहीं ना कहीं संविधान को दरकिनार कर यह कदम उठाया गया था.

उसके बाद से ही शिवसेना कांग्रेस और एनसीपी ने सुप्रीम कोर्ट में याचिका दायर की थी. जिसमें कुछ ऐसे बिंदु रखे गए थे जो इस तरह से मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाने को लेकर पूरी तरह से नियमों को टाक पर रख दिया था. इसके बाद जब सुप्रीम कोर्ट में सुनवाई हुई तो उन्होंने 1 दिन का समय दे दिया था, और अगले दिन सुनवाई में महाराष्ट्र सरकार बनाने को लेकर 26 नवंबर को फैसला देने का बोल दिया.

सुप्रीम कोर्ट ने दिया आदेश, कल शाम 5 बजे से पहले बहुमत सिद्ध करना होगा

महाराष्ट्र में सरकार बनाने को लेकर आज 26 नवंबर को सुप्रीम कोर्ट ने यह फैसला सुनाया, कल यानी कि 27 नवंबर की शाम 5:00 बजे से पहले देवेंद्र फडणवीस और दूसरी पार्टियों को अपना बहुमत सिद्ध करना होगा. यह फ्लोर टेस्ट लाइव टेलीकास्ट दिखाया जाएगा, चुनाव की प्रक्रिया पूरी तरह से खुले तौर पर की जायेगी.

यानी कि जो वोट देने की प्रक्रिया होगी वह छुपकर नहीं होगी, वह सबके सामने दिया जाएगा. जिस तरह से वोट की प्रक्रिया गु’प्त रहती है, इसमें ऐसा कुछ नहीं होगा. अब देवेंद्र फडणवीस के पास 24 घंटे से भी कम समय बचा है, अब देखना यह है कि कल शाम तक वो अपना बहुमत सिध्द कर पाएंगे कि नहीं.

इधर सुप्रीम कोर्ट के फैसले का सम्मान करते हुए कांग्रेस के नेता अशोक चव्हाण ने कहा है कि “संविधान दिवस पर संविधान का सम्मान हुआ” है. वहीँ एनसीपी नेता नवाब मलिक ने कहा “सत्यमेव जयते”. लोगों में भी इस फैसले को लेकर काफी खुशी है, कि चलो पहली बार कुछ ऐसा होने जा रहा है जिसमें कि पारदर्शिता है.

कहीं किसी तरह का घालमेल नहीं है, इधर अभी भी भाजपा और शिवसेना गठबंधन दोनों ही अपने-अपने बहुमत होने का दावा कर रहे हैं. अब देखना यह है कि कल शाम 5:00 बजे से पहले क्या होता है, तभी साड़ी तस्वीर साफ हो पायेगी, कि असल में बहुमत किसके पास है और कौन झूठ बोल रहा है.

आपको बता दें कि यह सुप्रीम कोर्ट का फैसला 3 जज की बेंच द्वारा किया गया, जिसमें जस्टिस एंड वी रमन ना जस्टिस संजीव खन्ना और जस्टिस अशोक भूषण ने अपना फैसला सुनाया. कल स्पीकरों द्वारा कौर के आदेश अनुसार पहले सभी विधायकों को शपथ दिलाएंगे और इसके बाद फ्लोर टेस्ट किया जाएगा.

Leave a comment