Hajj 2019: लब्बैक अल्ला हुम्मा लब्बेक की सदाओं के साथ, यात्रियों का पहला जत्था सऊदी के लिए रवाना

नई दिल्लीः लब्बैक अल्ला हुम्मा लब्बेक की सदाओं के साथ जायरीन-ए-हज का पहला जत्था सफर-ए-हज के लिेये गुरुवार को रवाना हो गया 304 हजयात्रियों का पहला जत्था श्रीनगर एयरपोर्ट से सऊदी अरब के लिए रवाना हुआ है जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्य पाल मलिक श्रीनगर अंतर्राष्ट्रीय हवाईअड्डे पर हज यात्रियों को फूल माला पहना कर उन्हें विदा किया इससे पहले हज यात्रियों को श्रीनगर शहर के बेमिना क्षेत्र के हज हाउस से विशेष बसों में हवाई अड्डे तकपहुंचाया गया. इस साल राज्य से करीबन 11,500 से अधिक यात्री तीर्थ यात्रा पर जाएंगे।

हज के पहले जत्थे को रवाना करने के लिये सूबे के अल्पसंख्यक आयोग के चेयरमैन और काजी-ए-शहर मौ. गुलाम यासीन के साथ सभी ने हरी झण्डी दिखाकर जायरीन की बस को एयरपोर्ट क लिये रवाना किया। रवानगी के पहले अस्थायी हज हाउस में एक छोटा सा समारोह हुआ जिसमें सूबे के अल्पसंख्यक आयोग चेयरमैन और मुख्यमंत्री का संदेश सुनाया।

आपको बता दें हज के लिए विमान श्रीनगर से सऊदी अरब के लिए 29 जुलाई तक उड़ान भरेंगे. 20 जुलाई तक सभी हज विमान मदीना हवाई अड्डे पर उतरेंगे और उसके बाद 29 जुलाई तक श्रीनगर से जाने वाले विमान मक्का हवाई अड्डे पर उतरेंगे।

आपको बता दें कि सऊदी अरब में भारत की हज हिस्सेदारी में 25,000 की वृद्धि के साथ, इस वर्ष सबसे अधिक संख्या में भारतीय हज करेंगे. इस साल 10,000 की वृद्धि के साथ इंडोनेशिया के 2.31 लाख लोग हज करेंगे. फरवरी में क्राउन प्रिंस मोहम्मद बिन सलमान की भारत यात्रा के दौरान भारत के हज कोटे में वृद्धि की घोषणा की गई थी. यह इन वर्षों में तीसरी वृद्धि रही।

इस साल हज चार जुलाई से 14 सितंबर तक होगा. मुख्य हज अवधि 8 से 14 अगस्त तक होगी, जब दुनिया भर के मुसलमान मक्का और आसपास के पवित्र स्थलों में हज की रस्में अदा करेंगे।