केजरीवाल पर भ’ड़का अल्पसंख्यक आयोग कहा- निजामुद्दीन मरकज़ वालों का अलग आंकड़ा क्यों? इससे हो रहा है मुसलमानों…

नई दिल्ली: दुनिया भर के 200 से भी ज्यादा देश कोरोना वायरस की महा’मा’री झेल रहे हैं. 13 लाख से भी ज्यादा लोग इस म’हा’मा’री की चपे’ट में आ चुके है दुनिया भर के आंकड़े बताते हैं कि 75 हजार से भी ज्यादा लोग इसकी वजह से मौ’त के मुं’ह में समा चुके हैं. यह वक्त है जब सभी मतभेदों को भुलाकर एकजुट होकर मुस्तैदी से इस बी’मारी से ल’ड़ने का लेकिन कुछ लोग ऐसे हैं जो इसके बहाने सा’म्प्रदा’यिक’ता को बढ़ावा देने में लगे हुए हैं।

हाल ही में (WHO) यानि विश्व स्वास्थ्य संगठन ने कड़ी आपत्ति जाहिर की है. विश्व स्वास्थ्य संगठन के कार्यकारी निदेशक डॉ माइकल रेयान ने साफ साफ कहा कि किसी भी हाल में कोरोना वायरस के मरीजों का धर्म जाति, भाषा या किसी न’स्ल के आधार पर बंटवारा नहीं किया जाना चाहिए. क्योकि भारत में मीडिया द्वारा लगातार एक स’मुदाय को टा’रगेट किया जा रहा है।

दिल्ली में भी ते’जी से बढ़ रहे हैं कोरोना के मामले.

वही अब इस मामले को लेकर दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने केजरीवाल सरकार को फ’टका’र लगते हुए पूछा है कि दिल्ली के कोरोना मामलों में निजामुद्दीन मरकज वालों का आंकड़ा अलग क्यों लिखा जा रहा है? गुरूवार को अल्पसंख्यक आयोग ने केजरीवाल सरकार को एक पत्र लिखकर इसका जवाब मांगा है।

आपको बता दें दिल्ली अल्पसंख्यक आयोग ने केजरीवाल से सवाल किया है कि आधिकारिक आंकड़ों में मरकज़ के मरीज़ों के लिए अलग कॉलम क्यों बनाया गया है? उन्होंने कहा कि संप्रदाय के आधार पर अलग किए गए कॉलम को जल्द से जल्द हटाया जाए, क्योंकि इस तरह की चीजें इ’स्ला’मोफो’बि’या के एजेंडे को बढ़ावा मिल रहा है।

पत्र में आगे कहा गया कि इस वजह से देशभर के कई हिस्सों में मुसलमानों पर ह’मले किये जा रहे हैं. वही अल्पसंख्यक आयोग ने WHO की रिपोर्ट का भी ह’वाला दिया. उन्होंने कहा कि कि WHO ने भी विश्व भर की सरकारों से अपील की है कि कोरोना के मरीज़ों के आधार पर राजनीति न की जाए और उन्हें धर्म के आधार पर न बांटा जाए।

आपको बता दें कि दिल्ली में भी कोरोना सं’क्रमि’तों की संख्या लगातार बढ़ती जा रही है. दिल्ली में कोरोना के मरीजों की संख्या अब 669 हो गई है वही भारतीय मीडिया और केजरीवाल सरकार द्वारा मरकज को जिस प्रकार कोरोना हॉ’टस्पॉ’ट के तौर पर दिखाया जा रहा है उससे मुस्लिम समुदाय पर ह’मले बढ़े है।

इसका ही नतीजा है कि दिल्ली के बवाना इलाके में मरकज से लौटे एक स्वस्थ मुस्लिम युवक की भी पी’ट पी’ट कर मा’र डाला।