VIDEO: तुम्हारे बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है, मुसलमा’न हिंदुस्तान का था, हिंदुस्तान का है, और हिंदुस्तान का रहेगा: कैबिनेट मंत्री आरिफ अकील

भोपाल: मोदी सरकार के दूसरे कार्यकाल के पहले छह महीनों में ही बीजेपी की विचारधारा से जुड़े तीन बड़े विधेयकों को राज्य सभा से पारित कराने के बाद मोदी सरकार ने नागरिकता संशोधन बिल (Citizenship Amendment Bill) सोमवार को लोकसभा में पास होने के बाद बुधवार को राज्यसभा में भी पास हो गया है। इस बिल के खिलाफ सड़क से लेकर संसद में जारी घमासान जारी है। अब बिल राष्ट्रपति के पास जाएगा और उनकी मंजूरी के साथ ही कानून बन जाएगा।

नागरिकता संशोधन बिल पर राज्यसभा में सरकार को 125 वोट मिले जिसके साथ ही यह बिल दोनों सदन में पास हो चुका है। अब बिल राष्ट्रपति के पास जाएगा और उनकी मंजूरी के साथ ही नया कानून बन जाएगा। हालांकि इस बिल का पहले से ही काफी विरोध चल रहा है, इस बिल को लेकर 727 से भी ज्यादा नामचीन हस्तियों ने भी सरकार को चिट्ठी लिखी।

तुम्हारे बाप का हिंदुस्तान थोड़ी है: कमलनाथ के कैबिनेट मंत्री आरिफ अकील

इसके अलावा कल लगभग 1000 वैज्ञानिकों और स्कॉलर्स ने भी इस बिल को नागरिकों के मौलिक अधिकारों का हनन बताकर इसका विरो’ध किया था। अब इसी को लेकर मध्य प्रदेश की कमलनाथ सरकार के कैबिनेट मंत्री आरिफ अकील ने नागरिकता संशोधन बिल पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त की है। उनका कहना है कि हिंदुस्तान किसी के बा’प का नहीं है। तुम हमारा बाल भी बांका नहीं कर पाओगे।

दरअसल, सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल के मामले में एक चर्चा यह भी है कि यह विधेयक भारत में रह रहे मुसलमा’नों के खिलाफ है। इस विधेयक के पारित हो जाने के बाद मुसलमा’नों का भारत में रहना मुश्किल हो जाएगा। हालांकि गृह मंत्री अमित शाह राज्यसभा में स्पष्ट कर चुके हैं कि जो मुसलमा’न भारत में निवास कर रहे हैं यह विधेयक उनके संदर्भ में नहीं है। उनको चिंता करने की जरूरत नहीं है।

 

गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि इस बिल के बारे में भ्रां’ति फैलाई जा रही है। कहा जा रहा है कि यह बिल मुसलमा’नों के खिला’फ है। जो लोग बहका रहे हैं, उनके बहकावे में ना आएं, यह मोदी सरकार है। इस देश के मुसलमा’नों के लिए चिंता की कोई बात नहीं है। भारत के मुसलमा’न नागरिक थे, नागरिक हैं और नागरिक रहेंगे। उन्हें कोई प्रताड़ित नहीं करेगा।

कमलनाथ सरकार के कैबिनेट मंत्री आरिफ अकील ने कहा कि तुम कोई भी बिल बना लो, कोई भी कानून बना लो, यह हिंदुस्तान किसी के बाप का नहीं है। इसे बनाने में सबके पुरखों का खू’न बहा है। तुम हमारा बाल भी बांका नहीं कर पाओगे। हम यही रहेंगे और यही दफन होंगे।