CAA हिं’सा: जुमे की नमाज के बाद बुलंदशहर के मुस्लि’म समाज ने वो कर दिखाया जिसकी पुलिस प्रशासन को नहीं थी उम्मीद

बुलंदशहर: नागरिकता संशोधन एक्ट (CAA) के विरोध में बीते शुक्रवार को प्रदर्शन में हुई हिं’सा के बाद बुलंदशहर के डीएम और एसएसपी सड़क पर है। रविवार को डीएम ने जिले के सभी मुस्लि’म धर्मगुरुओं के साथ एक बैठक की। इसमें सभी से शांतिपूर्ण व्यवस्था बनाये रखने की अपील की गई।

इस दौरान कलेक्ट्रेट पहुंचे मुस्लि’म धर्मगुरुओं ने डीएम जिलाधिकारी और एसएसपी को भरौसा दिलाया कि ऐसी घट’ना आगे से नहीं होगी इस दौरान सभी मौलानाओं ने डीएम और एसएसपी के साथ शपथ भी ली। दरअसल, यूपी के बुलंदशहर में बीते 20 दिसंबर यानी पिछले शुक्रवार को जुमे की नमाज के बाद हिं’सा भड़क उठी थी।

वही उ’पद्रवि’यों ने कई गाड़ियों में आग लगा दी थी और कई वाहनों में तो’ड़फो’ड़ कर दी थी। इस मामले में पुलिस ने सैकड़ों लोगों पर केस दर्ज किया था। साथ ही जिला प्रशासन ने उ’पद्रवि’यों से ही संपत्ति के नुकसान की भरपाई का आदेश दिया गया था।

जिला प्रशासन ने इस हिं’सा में 6 लाख 27 हजार 507 रुपये का नुकसान आकलन किया था। हलाकि इस बार 27 दिसंबर शुक्रवार को पुलिस प्रशासन खासा चौकस रहा। इस वजह से शुक्रवार को कोई विरोध प्रदर्शन नहीं हुआ।

शुक्रवार की नमाज़ के बाद मुस्लि’म समुदाय के लोगों ने डीएम को 6 लाख 27 हजार 507 रुपये का डिमांड ड्राफ्ट सौंपा। साथ ही डीएम को गुलाब भी दिया। बता दें इस शुक्रवार को बुलंदशहर में अमन और भाईचारा दिखाई दिया।

इस दौरान मुस्लि’म समाज के हजारो लोगों ने पुलिस को गुलाब के फूल दिए. इसके साथ ही मुस्लि’म समाज के लोगों ने हिं’सा के दौरान हुए नुकसान के एवज में पुलिस को 6 लाख 27 हजार 507 रुपये का ड्राफ्ट डीएम को सौंपा और जनपद में अमन चैन बनाए रखने की शपत ली।

वही मुस्लि’म समाज की इस पहल को देखकर डीएम-एसएसपी ने भी समाज के लोगों की तारीफ की और कहा कि इस कदम की यूपी में मिसाल दी जाएगी।

हलाकि शुक्रवार को मुस्लि’म समाज के लोगों ने इसकी भारपाई कर दी. अब सवाल ये है कि सरकारी संपत्ति के नुकसान के बावत जो FIR दर्ज की गई है, उस केस का क्या किया जाएगा।