NRC लिस्ट में नाम न आने की ख़बर सुनकर सायरा ख़ातून ने की आ’त्मह$त्या

असम में चल रही NRC की लिस्ट देशभर की मीडिया और लोगों की चर्चा में है| देश के हर खित्ते से असम NRC लिस्ट को लेकर मीडिया, नेताओं और आम लोगों की प्रतिकिरायें आ रही हैं| सरकार के NRC आंखड़ो के मुताबिक़ लिस्‍ट में 19 लाख 6 हज़ार 657 लोग अपनी जगह नहीं बना पाए हैं। NRC की फाइनल लिस्ट प्रकाशित होने के बाद असम में अफरा तफरी का माहौल है| कई लोग ऐसे हैं जिनका नाम लिस्ट में मौजूद न होने की वजह से तनाव में आगये हैं| हांलाकि उनके पास एक और मौका है नागरिकता साबित कर लिस्ट में नाम शामिल करवाने का परन्तु लोग फिर भी तनावग्र’स्त हैं|

एनआरसी के स्टेट कॉर्डिनेटर प्रतीक हजेला ने बताया कि 3 करोड़ 11 लाख 21 हज़ार लोगों को NRC की फाइनल लिस्ट में जगह मिल गयी है लेकिन वहीँ दूसरी ओर 19 06 657 लोगों को इस लिस्ट से बाहर कर दिया गया है। बता दें कि जो लोग इससे संतु’ष्ट नहीं है, वो फॉरनर्स ट्रि’ब्यून’ल को आगे अपील दे कर अपना नाम लिस्ट में शामिल करा सकते हैं।

लेकिन फिर भी जिन लोगों के नाम इस लिस्ट में शामिल नहीं हुए हैं वह बहुत ही असमरंजस में फ’से हुए हैं असम में चारो तरफ तना’व का माहौल है| इसी के चलते असम से एक खबर मिली है कि NRC लिस्ट में नाम शामिल न होने की वजह से एक महिला ने ख़ु’दकु’शी कर ली।

जानकारी के मुताबिक यह महिला तेजपुर क्षेत्र के रेजपुर दुलाबा’री की रहने वाली है और इसका नाम सायरा ख़ातून बताया जा रहा है| बता दें कि सायरा ने जब देखा कि उनका नाम NRC की फाइनल लिस्ट में नहीं आया है तो कथित रूप से उन्होंने एक कु’एं में छलां’ग लगाकर अपनी जा’न दे दी।

सोशल मीडिया पर सामाजिक कार्यकर्ता नदीम ख़ान ने यह दावा करते हुए बताया है कि सायरा का नाम लिस्ट में शामिल था। लेकिन उन्हें किसी अधिकारी ने ये जानकारी दे दी कि उनका नाम लिस्ट में नहीं है, वह एक बांग्लादेशी हैं। जिसे सुनने के बाद सायरा ने खु’दखु’शी कर ली।

आपको बता दें कि यह कोई पहली घट’ना है असम की इससे पहले भी गुरुवार को गुवाहा’टी में एक पति ने अपनी पत्नी का नाम NRC ड्राफ्ट में न आने पर ख़ु’दकु’शी कर ली थी। मामला करीमगंज के सोनैरपार गांव का था और खु’दखु’शी करने वाले व्यक्ति का नाम प्रीति भूषण दत्ता था।

जानकारी के लिए बता दें कि शेड्यूल ऑफ सिटिजनशिप के सेक्शन 8 के मुताबिक लोग NRC में नाम न होने पर अपील कर सकते हैं। अपील के लिए समयसीमा को अब 60 दिन से बढ़ाकर 120 दिन कर दिया गया है यानी 31 दिसंबर, 2019 अपील के लिए लास्ट डेट होगी।

गृह मंत्रालय के आदेश के मुताबिक़ करीब 400 ट्राइब्यूनल्स का गठन एनआरसी के विवा’दों से निपटने के लिए किया गया है। जिसको लोगों की सुविधा के हिसाब से बनाया जायेगा| लिस्ट में बंचित लोग वहाँ जाकर अपील कर सकते हैं|