इस छोटे से मुस्लि’म देश के प्रधानमंत्री को मिलेगा 2019 का शाँति नॉबल पुरुस्कार

दुनिया में आये दिन हम सदियों से चली आ रही दुश्मनी के चलते यु’द्ध के बारे में तो आये दिन खबरें आती रहती हैं| जहां हर कोई यु’द्ध कर जीत हासिल करना और दूसरे को हराकर खुद बड़ा बनना चाहता है आज वहीँ इसी दुनिया में एक देश ऐसा भी मौजूद है जहां सदियों से चली आ रही दुश्मनी के विवा’द को खत्म कर दोनों देशों में शांति कायम कर दी| बता दें कि इस शान्ति कायम करने का पूरा श्रे’य वहाँ के प्रधानमंत्री को जाता है साथ ही उनके साथियों को जिन्होंने इस यु’द्ध को खत्म कर शांति क़याम की है, जिसके लिए आज उनको नॉबल शांति पुरुस्कार भी दिया जा रहा है|

दरअसल आपको बता दें कि इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद अली को 2019 का शांति का नोबेल पुरस्कार दिया जाएगा| इन्हें ये अवार्ड इथियोपिया के पड़ोसी देश इरीट्रिया से पिछले 20 सालों से चले आ रहे विवाद को सुलझाने के लिए दिया जाएगा।

जानकारी के मुताबिक़ प्रधानमंत्री अली को अंतरराष्ट्रीय सहयोग प्राप्त करने के उनके प्रयासों, खासतौर से पड़ोसी मुल्क इरिट्रिया के साथ सीमा संघ’र्ष को हल करने को लेकर उनकी निर्णायक पहल के लिए नोबेल शांति पुरस्कार से उन्हें नवाजे जाने का ऐलान हो चुका है|

बता दें कि प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नाम का ऐलान होने से पहले कई नामों पर जोरदार चर्चा चल रही थी, इसमें 16 वर्षीय स्वीडिश जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग का नाम भी शामिल था| इसके अलावा जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और हांगकां’ग में कार्यकर्ताओं का नाम भी सामने आ रहा था|


हालांकि आपको बता दें कि नोबेल पुरस्कार समिति ने सभी को चौंकाते हुए इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद अली को 2019 के शांति नोबेल पुरस्कार के नाम का ऐला’न किया| जानकारी के मुताबिक़ इथियोपिया अफ्रीका का दूसरा सबसे घनी आबा’दी वाला देश है और पूर्वी अफ्रीका का सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश भी है|

आपको बता दें कि अबी अहमद अली पिछले साल अप्रैल में इथियोपिया के प्रधानमंत्री बने और उन्होंने पद संभालते ही यह साफ कर दिया था कि वह इरिट्रिया के साथ शां’ति वार्ता को जारी रखेंगे| उन्होंने इरिट्रिया के राष्ट्रपति इसाइस अफवर्की के साथ शांति पर लगातार चर्चा की और नो पीस, नो वार सिद्धां’त पर समझौता किया| इसके बाद फिर दोनों ही देशों के शीर्ष नेताओं ने इस साल जुलाई और सितंबर में दोनों देशों में शां’ति समझौतों का ऐला’न किया|


जानकारी के लिए बता दें कि 1901 से अब तक नोबेल शांति पुरस्कार 99 व्यक्तियों और 24 संगठनों को दिए जा चुके हैं| नोबेल से जुड़े पुरस्कारों का ऐलान स्टॉकहोम में होता है जबकि शांति पुरस्कार की घोषणा नार्वे की राजधानी ओस्लो में की जाती है|

साभार: #AajTak