VIDEO: योगी जी ये जानवर नहीं इंसान हैं, डेंगू के लार्वा मारने वाले केमिकल से मजदूरों को सैनिटाइज किया गया

VIDEO: योगी जी ये जानवर नहीं इंसान हैं, डेंगू के लार्वा मारने वाले केमिकल से मजदूरों को सैनिटाइज किया गया

दुनिया भर में कोरोना वायरस के कहर के चलते सरकार ने 21 दिनों के लिए देश को लॉकडाउन कर दिया है। जिसके चलते देश भर से गरीब मजदूर अपने गृहनगर लौटने की जद्दो जेहद में लगे हुए हैं। लॉकडाउन से दिल्ली समेत देश के अलग-अलग शहरों में रोजगार छिन जाने के बाद सैकड़ो मजदूर हजारो किलोमीटर का पैदल सफर तय कर अपने अपने गांव पहुंच रहे है। ताकि अपने घर जाकर उन्हें अपनों के बीच सकून मिल सके।

लेकिन इस बीच उत्तर प्रदेश के बरेली से जो तस्वीरें और वीडियो सामने आए, उसने सभी को हैरान करके रख दिया। दरअसल बरेली पहुंचे मजदूरों पर नगर निगम के कर्मचारियों और फायर ब्रिगेड कर्मियों ने रसायनयुक्त पानी का छिड़काव कर दिया। पुलिस-प्रशासन की मौजूदगी में बेबस थके हारे मजदूरों पर जानलेवा केमिकल मिले पानी का छिड़काव कर दिया।

एनडीटीवी की रिपोर्ट के अनुसार ये वही लोग हैं जो देश के अलग अलग हिस्सों से चलकर अपने घर गावं वापस आए हैं। प्रशासन की इस हरकत पर कांग्रेस राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने ट्वीट किया है। गांधी ने कहा कि सरकार से गुजारिश है कि ऐसे अमानवीय काम मत करिए।

वही कांग्रेस नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री जितिन प्रसाद ने जब मजदूरों पर केमिकल मिले पानी के छिड़काव का वीडियो शेयर किया और जब ये वीडिया मीडिया की सुर्खियां बनीं तो इस पर सवाल खड़े किए जाने लगे। लोगों ने पूछा कि आखिर इन मजदूरों के साथ अमानवीय व्यवहार क्यों किया जा रहा है।

इन्हें क्वारंटाइन में रखने के बजाय इनके ऊपर केमिकल मिले पानी का छिड़काव आखिर क्यों? खबर जब सुर्खियां बनीं तो प्रशासन की नींद खुली । जिसके बाद बरेली के डीएम ने प्रतिक्रिया दी बरेली के डीएम ने ट्वीट कर कहा, इस वीडियो की पड़ताल की गई है।

प्रभावित लोगों का सीएमओ के निर्देशन में उपचार किया जा रहा है। बरेली नगर निगम और फायर ब्रिगेड की टीम को बसों को सैनेटाइज़ करने के निर्देश दिए गए थे, लेकिन अति सक्रियता के चलते उन्होंने ऐसा कर दिया। सम्बंधित लोगों के खिलाफ कार्रवाई के निर्देश दिए गए हैं।

वही प्रशासन की इस कार्रवाई पर भड़कते हुए सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने सवाल पूछते हुए कहा, यात्रियों पर सेनिटाइज़ेशन के लिए किए गए केमिकल छिड़काव से उठे कुछ सवाल, क्या इसके लिए विश्व स्वास्थ्य संगठन के निर्देश हैं? केमिकल से हो रही जलन का क्या इलाज है? भीगे लोगों के कपड़े बदलने की क्या व्यवस्था है?

Leave a comment