सिर्फ़ मुसलमान ही नहीं, मोदी के मंत्री मंडल में भी बीफ़ खाने वाले बहुत हैं: शिवसेना

नई दिल्ली: पिछले दिनों नसीरुद्दीन शाह को काफी ट्रोल किया गया। इतना ही नहीं देश भर में उनके विरोध में कई तरह की खबरें समाने आईं। लेकिन अब सामना में छपे अपने स्तंभ में शिवसेना के प्रवक्ता संजय राऊत ने नसीरुद्दीन शाह की तारीफ की है। संजय का यह बयान कई मायनों में चौंकाने वाला है संजय ने नसीरुद्दीन के लिं$चींग के डर के सही ठहराया है. इतना ही नहीं संजय ने कहा जो लोग नसीरुद्दीन शाह को आरोपी के कटघरे में खड़ा कर रहे हैं उन्हें आत्मपरीक्षण करने की जरुरत है।

संजय राउत ने कहा की नसीरुद्दीन जैसे कलाकार मुस्लिम होने की वजह से अपना डर प्रदर्शित करते हैं तो अन्य लोग उनपर टूट पड़ते हैं मुस्लिम होने के बावजूद शाह ने कभी पाकिस्तान की वाहवाही नहीं की है नसीरुद्दीन ने बड़ी संजीदगी से अपनी बात कही है. वह उत्तरप्रदेश के आजम खान जैसे बेबाक वक्त नहीं हैं।

जिसपर इतना हंगामा बरपा है. आमिर खान, शाहरुख खान ने भी इसी तरह के वक्तव्य किए थे लेकिन दोनों के कार्यक्रम में भाजपा नेता जाते हैं, मुख्यमंत्री जाते हैं उनके साथ बैठते हैं इस देश में अपनी बात कहने का अधिकार हर किसी को है यह बात हमें समझनी होगी।

संजय ने अपने बयान के बाद लोगों से सवाल किया नसीरुद्दीन शाह के पहले कई हिंदू विचारकों ने यही बात कही है उन्हें कौनसे देश में भेजोगे? नसीरुद्दीन शाह की वेदनाओं को समझना होगा. उसे समझने की मनस्थिती में आज देश नहीं है।

गौरतलब है कि बॉलीवुड के बेहतरीन और सीनियर एक्टर्स में से एक नसीरुद्दीन शाह ने हाल में एक इंटरव्यू के दौरान कहा कि देश में जैसा माहौल चल रहा है उसे देखकर उन्हें डर लगता है कि कल को उनके बच्चों को किसी गली में घेर कर न पूछ लिया जाए कि तुम हिंदू हो या मुस्लिम।