सऊदी, कुवैत और ईरान से भी ज़्यादा कच्चे तेल के भंडार हैं इस मुस्लिम देश में !

वर्तमान समय में हर देश की प्राथमिक जरूरतों में कच्चा तेल शामिल हैं. आज के समय में कई आधुनिक अविष्कार ऐसे है जिन्हें कच्चे तेल के उत्पादों की जरूरत पड़ती हैं. कच्चे तेल के उत्पादों के बिना यह महज लोहे और प्लास्टिक का कचरा साबित होते हैं. इतना ही नहीं कच्चा तेल ही दुनिया की राजनीति भी तय करता है. आज तक हुई कई बड़ी जंग के पीछे का कारण तेल भी रहा है.

दुनिया में अर्थव्यवस्था और मंहगाई का रुख भी तेल ही तय करता हैं. भारत जैसे विकाशील देशों के लिए कच्चे तेल का महत्व और ज्यादा बढ़ जाता हैं. तेल की बढती कीमत विकाशील देशों में मंहगाई का बोझ बड़ा देती हैं. आज हम आपको कुछ ऐसे देशों के बारे में बताने जा रहे है जो तेल के विशाल भंडार रखते हैं.

दुनिया में पिछले कई सालों से सबसे ज्यादा कच्चा तेल उत्पादन में पहले नंबर पर सऊदी अरब रहा हैं. लेकिन इस बार सऊदी अरब इस लिस्ट में नीचे खिसक गया है. सऊदी अरब को पछाड़ कर वेनेजुएला दुनिया का सबसे ज्यादा कच्चे तेल का भंडार रखने वाला देश बन गया हैं.

वेनेजुएला के पास 300.9 अरब बैरल के कच्चे तेल का भंडार है. वहीं सऊदी अरब इस लिस्ट में दुसरे पायदान पर पहुंच गया है. सऊदी अरब के पास 266.5 अरब बैरल का तेल भंडार हैं. जबकि तीसरे पायदान पर 169.1 अरब बैरल के साथ कनाडा मौजूद है.

ईरान इस लिस्ट में चौथे नंबर पर है उसके पास 158.4 अरब बैरल का भंडार हैं. ईराक 142.5 अरब बैरल के भंडार के साथ पांचवें स्थान पर काबिज हैं. कुवैत 101.5 अरब बैरल तेल के भंडार रखता है और उसका स्थान दुनिया भर में छठवें नंबर का हैं.

सातवें स्थान पर युएई है, उसके पास 97.8 अरब बैरल का भंडार हैं. आठवां स्थान रूस का है उसके पास 80 अरब बैरल के भंडार हैं. लीबिया के पास 48.4 अरब बैरल के भंडार है जबकि नाईजीरिया के पास 37.1 अरब बैरल के भंडार के साथ क्रमशः नौवे और दशवें स्थान हैं.

सोर्स- हिंदीन्यूज़ 18 डॉट कॉम